Monday , 20 January 2020

RELIGION

चिंतन-मनन : अपूर्णता से पूर्णता की ओर

मनुष्य का बाह्य जीवन वस्तुत: उसके आंतरिक स्वरूप का प्रतिबिम्ब मात्र होता है. जैसे ड्राइवर मोटर की दिशा में मनचाहा बदलाव कर सकता है. उसी प्रकार, जीवन के बाहरी ढर्रे में भारी और आश्चर्यकारी परिवर्तन हो सकता है. वाल्मीकि और अंगुलिमाल जैसे भयंकर डाकू क्षण भर में परिवर्तित होकर इतिहास प्रसिद्ध संत बन गये. गणिका और आम्रपाली जैसी वीरांगनाओं को ... Read More »

चिंतन-मनन : द्वंद्व के बीच शांति की खोज

केवल ज्ञान की बातें करों. किसी व्यक्ति के बारे में दूसरे व्यक्ति से सुनी बातें मत दोहराओ. जब कोई व्यक्ति तुम्हें नकारात्मक बातें कहे, तो उसे वहीं रोक दो, उस पर वास भी मत करो. यदि कोई तुम पर कुछ आरोप लगाये, तो उस पर वास न करो. यह जान लो कि वह बस तुम्हारे बुरे कर्मो को ले रहा ... Read More »

चिंतन-मनन : जो हो रहा है उसके जिम्मेदार हम खुद हैं

हम मनुष्यों की एक सामान्य सी आदत है कि दु?ख की घड़ी में विचलित हो उठते हैं और परिस्थितियों का कसूरवार भगवान को मान लेते हैं. भगवान को कोसते रहते हैं कि ‘हे भगवान हमने आपका क्या बिगाड़ा जो हमें यह दिन देखना पड़ रहा है.’ गीता में श्री कृष्ण ने कहा है कि जीव बार-बार अपने कर्मों के अनुसार ... Read More »

मकर संक्रांति को लेकर पवित्र नदियों में लगायी आस्था की डुबकी

रांची. मकर संक्रांति को लेकर राजधानी रांची स्थित स्वर्णरेखा नदी सहित राज्य की विभिन्न नदियों में आज लोगों ने आस्था की डुबकी लगाई. इस दौरान पूरे इलाके का माहौल भक्तिमय बना रहा. मकर संक्रांति िंहंदुओं का प्रमुख पर्व है. इस दिन भारतीय संस्कृति के विविध स्वरूप का दर्शन होता है. मकर संक्रांति पूरे भारत और नेपाल में किसी न किसी ... Read More »

सबरीमाला में मकरविलक्कू उत्सव के लिए भारी सुरक्षा प्रबंध

सबरीमला. भगवान अयप्पा के प्रसिद्ध मंदिर परिसर में यहां बुधवार के मकरविलक्कू उत्सव के लिए सुरक्षा की व्यापक व्यवस्था की गई है. मंदिर का प्रबंधन करने वाले त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड (टीडीबी) ने कहा है कि श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जमा होने के मद्देनजर सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एनडीआरएफ और त्वरित प्रतिक्रिया बल की टीम मंदिर के अंदर और उसके ... Read More »

आज मकर संक्रांति पर्व, करें सूर्य को मजबूत, इस बार कई कारणों से खास है मकर संक्रांति

मुंबई, . सूर्य का किसी राशी विशेष पर भ्रमण करना संक्रांति कहलाता है. सूर्य की गति इस दिन से बढ़ने लगती है. खरमास खत्म हो जाता है और शुभ और मांगलिक कार्य शुरू हो जाते हैं. ऐसा सब सूर्य के गोचर के कारण ही होता है. सूर्य हर माह में राशी का परिवर्तन करता है. वर्ष की बारह संक्रांतियों में ... Read More »

चिंतन-मनन : श्रद्धा के मुताबिक पूजा

हरेक व्यक्ति में चाहे वह जैसा भी हो, एक विशेष प्रकार की श्रद्धा पाई जाती है. लेकिन उसके द्वारा अर्जित स्वभाव के अनुसार उनकी श्रद्धा उत्तम (सतोगुणी), राजस (रजोगुणी) अथवा तामसी कहलाती है. अपनी श्रद्धा के अनुसार ही वह कतिपय लोगों से संगति करता है. अब वास्तविक तथ्य तो यह है कि जैसा कि गीता के 15 वें अध्याय में ... Read More »

रामचरितमानस में पारिवारिक व सामाजिक मूल्य बोध : प्रो.शरद नारायण खरे

“ परिवार ही हमारे सामाजिक जीवन की आधारशिला है,जिसमें हमारे जन्म से लेकर मृत्यु तक सारी गतिविधियाँ संचालित होती हैं. हिन्दू परिवार का जीवन-दर्शन पुरूषार्थ पर आधारित है जो विश्व के अन्य समाजों के परिवारों का जीवन दर्शन नहीं है. अतः परिवार मनुष्य के सभ्य और सुसस्ंकृत होने का स्वाभाविक तारतम्य है जिसके माध्यम से मानव जीवन का उन्नयन होता ... Read More »

शोभन योग में मनेगा मकर संक्रांति का पर्व : राकेश दुबे

मकर संक्रांति पर इस बार शोभन योग में सूर्य का राशि परिवर्तन हो रहा है. इससे जप तप और श्राद्ध तर्पण का महापर्व काफी खास होगा. पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र और शोभन योग में मकर संक्रांति होने से महत्व काफी बढ़ गया है. इसमें किया गया दान पुण्य और अनुष्ठान तत्काल फल देने वाला होता है. माघ कृष्ण पंचमी बुधवार 15 ... Read More »

अब जींस पहनकर नहीं कर सकेंगे बाबा काशी विश्वनाथ के स्पर्श

वाराणसी . धार्मिक राजधानी वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में अब बाबा विश्वनाथ के स्पर्श दर्शन के लिए ड्रेस कोड लागू करने का फैसला लिया गया है. बाबा विश्वनाथ के स्पर्श दर्शन के लिए अब पुरुषों के लिए धोती-कुर्ता और महिलाओं के लिए साड़ी पहनना अनिवार्य होगा. साथ ही स्पर्श दर्शन की अवधि भी बढ़ाई जाएगी. रविवार को धर्मार्थ कार्यमंत्री ... Read More »

लोहड़ी के जश्न में डूबे लोग, बॉलीवुड में भी जश्न

मुंबई, . भारत को त्यौहारों का देश कहा जाता है. इन त्यौहारों में लोहड़ी के पर्व को बेहद खास माना गया है. लोहड़ी का पर्व भारत की परंपराओं और सभ्यताओं का मिलाजुला रूप है. जिसमें धरती माता का सम्मान और प्रकृति की उदारता को नमन किया जाता है. भारत कृषि प्रधान देश है. लोहड़ी का सीधा संबंध हमारे खेतों से ... Read More »

काशी विश्वनाथ मंदिर में स्पर्श दर्शन के लिए ड्रेस कोड

वाराणसी . काशी विश्वनाथ मंदिर में स्पर्श दर्शन के लिए ड्रेस कोड लागू करने का फैसला वापस ले लिया गया है. सूबे के धर्मार्थ कार्य मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने ट्वीट कर स्‍पष्‍ट किया है कि ऐसा प्रस्ताव-सुझाव आया था, लेकिन इस पर अभी निर्णय नहीं हुआ है. काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन की व्यवस्था को लेकर मंदिर प्रशासन की ... Read More »

चिंतन-मनन : सुखी रहना है तो भगवान से शिकायत न करें

इंसानों की एक सामान्य आदत है कि तकलीफ में वह भगवान को याद करता है और शिकायत भी करता है कि यह दिन उसे क्यूं देखने पड़ रहे हैं. अपने बुरे दिन के लिए इंसान सबसे ज्यादा भगवान को कोसता है. जब भगवान को कोसने के बाद भी समस्या से जल्दी राहत नहीं मिलती है तो सबसे ज्यादा तकलीफ होती ... Read More »

सिविल ठेकेदार बनावा रहा कर्नाटक में यमराज का मंदिर

मैसुरु . कर्नाटक के मांड्या जिले में कृष्‍णा सागर बांध के पास सिविल ठेकेदार केएन राजू मौत और न्‍याय के देवता यमराज का एक मंदिर बनवा रहे हैं. देश में यमराज के कई मंदिर हैं लेकिन कर्नाटक में यमराज का पहला मंदिर हो सकता है. बताया जा रहा है कि मंदिर के बन जाने के बाद उसमें यमराज की 5 ... Read More »

इस साल छह ग्रहण : 4 चंद्र-2 सूर्य, 10 जनवरी को पहला चंद्र ग्रहण

हरिद्वार . देश में इस वर्ष का पहला चंद्र ग्रहण पौष पूर्णिमा के दिन 10 जनवरी को लगेगा. ग्रहण की कुल अवधि 4 घंटे के आसपास रहेगी. ग्रहण का प्रारंभ रात 10 बजकर 39 मिनट पर होगा जबकि समाप्ति देर रात 2 बजकर 20 मिनट पर होगी. इस वर्ष देश में कुल 6 ग्रहण लगेंगे जिनमें से 2 सूर्य ग्रहण ... Read More »

चिंतन-मनन : मनुष्य को कर्मों का कर्ज चुकाना होगा

भगवान ने हमारे जीवन को पवित्र बनाने के लिए समय-समय पर जो उपदेश दिए हैं, वे शास्त्रों के रूप में हमारे सामने हैं. हमें यह जो मनुष्य भव मिला है, यदि कर्मों का कर्ज चुका दिया तो सीधे मोक्ष प्राप्त हो सकता है. मनुष्य को अपने कर्मों का भुगतान स्वयं करना पड़ता है. उपाध्याय प्रवर मूलमुनिजी ने धर्मसभा को संबोधित ... Read More »

चिंतन-मनन : धर्मराज युधिष्ठिर ने निभाया था भ्रातृ धर्म

गहन वन से तृषार्त पाण्डव गुजर रहे थे. पानी की तलाश में वे इधर-उधर घूम ही रहे थे कि अकस्मात उन्हें एक सरोवर दिखाई दिया. भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव जल पीने के पूर्व ही मृत्यु का ग्रास बन गए. कारण यह था कि एक यक्ष ने उनसे प्रश्न किए थे, किंतु उन्होंने उस ओर ध्यान नहीं दिया और बिना ... Read More »

चिंतन-मनन / मृत्यु की चिंता और चिंतन का महत्व

एक महात्मा अपने शिष्यों के साथ जंगल में आश्रम बनाकर रहते थे और उन्हें योगाभ्यास सिखाते थे. वह सत्संग भी करते थे. एक शिष्य चंचल बुद्धि का था. बार-बार गुरु से कहता, आप कहां जंगल में पड़े हैं, चलिए एक बार नगर की सैर करके आते हैं. महात्मा ने कहा, मुझे तो अपनी साधना से अवकाश नहीं है. तुम चले ... Read More »

चिंतन-मनन : जाल हैं राग और द्वेष

परमानंद को समझा नहीं जा सकता और उसे पाना भी अत्यंत कठिन है. कई जीवन कालों के बाद परमानंद की प्राप्ति होती है और एक बार पाने पर इसे खोना तो और भी कठिन है. जीवन में तुम्हें तलाश है केवल परमानंद की- अपने स्रेत के साथ तुम्हारा दिव्य मिलन और संसार में बाकी सबकुछ तुम्हें इस लक्ष्य की प्राप्ति ... Read More »

नए साल में सिर्फ 52 दिन होंगी शादियां

इंदौर . वर्ष 2020 में ‎सिर्फ 52 ‎दिन ही शा‎दियों का मुहूर्त है. इसके अलावा 4 गुरु और 4 ‎र‎वि पुष्य स‎हित खरीदी के 8 महामुहूर्त भी होंगे. हालां‎कि ‎पिछले वर्ष के मुकाबले इस बार ‎विवाह के मुहूर्त की संख्या में काफी कमी आई है. बता दें ‎कि 2019 में जहां ‎विवाह के ‎लिए 111 ‎दिन थे, वहीं 2020 में ... Read More »

नववर्ष से माता वैष्णो देवी से 70 एमएम सिल्वर स्क्रीन पर सीधे प्रसारित होगी आरती

कटड़ा . पहाड़ों वाली माता वैष्णो देवी के श्रद्धालुओं के लिए अब एक अनुपम सौगात मिलने वाली है. श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड नववर्ष पर आधार शिविर कटड़ा में मां वैष्णो देवी की दिव्य लाइव अटका आरती की सुविधा शुरू कर रहा है. जनवरी में यह सुविधा आधार शिविर कटड़ा में श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के आध्यात्मिक ... Read More »

पेजावर मठ प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी का अवसान, पीएम मोदी ने जताया शोक

नई दिल्ली . पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी जी ने रविवार को देह त्याग दी है. उसके अवसान से देश में शोक की लहर फैल गई है. उनकी हालत पिछले कई दिनों से गंभीर बनी हुई थी. हालात बिगड़ने के बाद उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर भी रखा गया था. रविवार को ही उन्हें केएमसी अस्पताल से मठ ... Read More »

चिंतन-मनन : मानव जीवन की गरिमा

नालंदा तक्षशिला जैसे अनेक विश्वविद्यालय इस देश में थे. देश की शिक्षा व्यवस्था की पूर्ति तो स्थानीय गुरुकुल ही कर लेते थे. उच्च स्तरीय एवं अंतरराष्ट्रीय शिक्षा व्यवस्था का प्रबंध यह विश्वविद्यालय करते थे. देश-देशांतरों की भाषाएं वहां पढ़ाई जाती थीं, जिनमें पारंगत होकर अपने को विश्व सेवा के लिए समर्पित करने वाले महामानव विश्व के कोने-कोने में पिछड़े क्षेत्रों ... Read More »

नववर्ष 2020 में सिर्फ 52 दिन शादियां, 2019 के मुकाबले आधे से भी कम होंगे विवाह के मुहूर्त

भोपाल . नववर्ष 2020 में सिर्फ 52 दिन ही शादियां होगी. नए साल में विवाह के मुहूर्त 2019 के मुकाबले आधे से भी कम होंगे. साल 2019 में जहां विवाह के लिए 111 दिन थे, वहीं इस बार संख्या घटकर सिर्फ 52 पर आकर टिक गई है. इसके अलावा 4 गुरु और 4 रवि पुष्य सहित खरीदी के 8 महामुहूर्त ... Read More »