बीते साल राजस्‍व तीन गुना बढ़ने के बावजूद ब्लिंकिट को 1,078 करोड़ रुपये का घाटा: रिपोर्ट

नई दिल्ली, 19 अक्टूबर . ज़ोमैटो के स्वामित्व वाले त्वरित डिलीवरी प्लेटफॉर्म ब्लिंकिट का घाटा वित्त वर्ष 2022-23 में 8.2 प्रतिशत बढ़कर 1,078.9 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. इससे पहले वित्त वर्ष 2021-22 में उसे 996.7 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था.

एनट्रैकर की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी के कुल व्‍यय में 29.2 प्रतिशत डिलीवरी और संबंधित शुल्क पर खर्च हुये.

रिपोर्ट में कहा गया है, “यह लागत वित्त वर्ष 2021-22 के 235.9 करोड़ रुपये से 2.4 गुना बढ़कर वित्त वर्ष 2022-23 में 565.8 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. कर्मचारी, विज्ञापन, किराये और आउटसोर्सिंग मानव शक्ति पर खर्च मिलाकर मार्च में समाप्‍त वित्त वर्ष में कुल व्‍यय 1,939 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.”

रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (आरओसी) के पास दाखिल बयान के मुताबिक, ब्लिंकिट ने अपने राजस्व में तीन गुना उछाल दर्ज किया. परिचालन से इसका राजस्व वित्त वर्ष 2022-23 में बढ़कर 724.2 करोड़ रुपये हो गया, जो वित्त वर्ष 2021-22 में 236.1 करोड़ रुपये था.

रिपोर्ट में कहा गया है, “ब्लिंकिट मार्केटप्लेस कमीशन से पैसा कमाता है, जो कुल परिचालन राजस्‍व का 55.9 प्रतिशत है. पिछले वित्तीय वर्ष में यह आय 2.75 गुना बढ़कर 404.5 करोड़ रुपये हो गई, जो वित्त वर्ष 2021-22 में 146.8 करोड़ रुपये थी.”

ब्लिंकिट को ज़ोमैटो ने एक ऑल-स्टॉक डील में 56.8 करोड़ डॉलर में खरीदा था. ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में दो करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ और 2,416 करोड़ रुपये का राजस्व दर्ज किया था जो साल-दर-साल आधार पर 70.9 प्रतिशत अधिक है.

पिछले साल की समान तिमाही में जोमैटो को 186 करोड़ रुपये का शुद्ध नुकसान हुआ था जबकि उसका राजस्‍व 1,414 करोड़ रुपये रहा था. कंपनी ने शेयर बाजार को बताया था कि त्वरित वाणिज्य (ब्लिंकिट) व्यवसाय 30 जून 2023 काे समाप्‍त तिमाही में पहली बार मुनाफे में आया था. आंकड़ों के अनुसार, इसके लेनदेन करने वाले ग्राहकों की संख्‍या एक साल पहले के 1.67 करोड़ से बढ़कर 1.75 करोड़ पर पहुंच गई.

एकेजे

Check Also

बायजू के 20 हजार कर्मचारियों के वेतन में देरी, सीईओ ने निवेशकों को ठहराया जिम्मेदार

नई दिल्ली, 2 मार्च . एडटेक क्षेत्र की प्रमुख कंपनी बायजू ने अभी तक अपने …