यूपी चुनाव में 2017 का फॉर्मूला-‘बूथ जीता तो सब जीता’ आजमाएगी भाजपा

 

नई दिल्ली (New Delhi) . साल 2022 में होने जा रहे विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के लिए भारतीय जनता पार्टी तैयारियों में जुटी है. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से यह तस्वीर साफ होती नजर आ रही है कि पार्टी मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ की अगुआई में ही चुनाव लड़ेगी. पार्टी ने चुनाव जीतने के लिए 2017 की तरह ही बूथ स्तर पर मेहनत करने का फैसला किया है. उल्लेखनीय है कि पार्टी इस बार ‘बूथ जीता तो सब जीता’ की रणनीति पर काम करेगी. बीते मंगलवार (Tuesday) को राजधानी लखनऊ (Lucknow) में भाजपा नेताओं की मैराथन बैठकें हुईं. इस दौरान नेताओं ने सीएम योगी की नेतृत्व क्षमताओं पर भरोसा जताया. पार्टी के संकटमोचक की तरह उभरे राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष ने भी योगी को रिकॉर्ड 8.1 लाख टीकाकरण की बुधवार (Wednesday) को बधाई दी है. इस दौरान पार्टी मीटिंग में मौजूद भाजपा के दो वरिष्ठ मंत्रियों ने बताया कि 2017 की तरह ब्लॉक लेवल पर काम करने को कहा गया है. साथ ही लोगों तक केंद्र और राज्य सरकार (State government) की तरफ से बीते पांच सालों में किए गए अच्छे कामों की जानकारी पहुंचाने के लिए कहा गया है.

एक मंत्री ने कहा आखिरी बार 2017 में हमारे पास लोगों को बताने के लिए केवल केंद्र की उपलब्धियां थीं, लेकिन इस बार हमारे पास राज्य सरकार (State government) की उपलब्धियां भी हैं. संतोष और भाजपा के यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह बुधवार (Wednesday) को लखनऊ (Lucknow) में बूथ अध्यक्ष से मिलेंगे. इस दौरान यह पुख्ता किया जाएगा कि भाजपा 2017 की रणनीति पर काम करेगी और सभी मंत्री और पदाधिकारी बूथ पर ध्यान लगाएंगे.
उन्होंने बताया कि मीटिंग में इस बात पर भी जोर दिया गया कि लोगों को यह बताना चाहिए कि कैसे उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) जैसे बड़े आबादी वाले राज्य में एक महीने में कोरोना (Corona virus) काबू में आ गया. साथ ही यह भी बताने के लिए कहा गया है कि टीकाकरण पूरी रफ्तार के साथ चल रहा है और 2021 के अंत तक सभी वयस्कों को टीका लग जाएगा.

एक वरिष्ठ मंत्री ने बताया कि मुफ्त राशन योजना, अनाज की रिकॉर्ड खरीदी, गन्ने का रुका हुआ भुगतान और 2017 से अब तक चार लाख नौकरियों की बात को लोगों तक पहुंचाने का संदेश दिया गया है. इसके अलावा कहा गया है कि ‘विपक्ष की तरफ से चलाए जा रहे अभियान का विरोध भी हो. इस दौरान पार्टी नेताओं ने मंत्रियों की शिकायतें भी सुनीं. मंत्रियों ने बताया नौकरशाह भाजपा की शिकायतों पर ध्यान नहीं देते हैं.

Please share this news