बीजेपी-कांग्रेस की राह का रोड़ा बन रही BTP-RLP; वल्लभनगर, धरियावद उपचुनाव में समीकरण बिगाड़ने के प्रयास – Daily Kiran
Thursday , 9 December 2021

बीजेपी-कांग्रेस की राह का रोड़ा बन रही BTP-RLP; वल्लभनगर, धरियावद उपचुनाव में समीकरण बिगाड़ने के प्रयास


जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan) के उदयपुर (Udaipur) जिले की वल्लभनगर और प्रतापगढ़ की धरियावद विधानसभा सीट के लिये होने जा रहे उपचुनाव बीजेपी और कांग्रेस की राह में आदिवासी समुदाय की भारतीय ट्राइबल पार्टी और नागौर (Nagaur) सांसद (Member of parliament) हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (बीटीपी-आरएलपी) रोड़ा बनकर उभर रही है. बीटीपी और आरएलपी दोनों ही पार्टियां बीजेपी-कांग्रेस के समीकरण बिगाड़ने के भरसक प्रयास कर रही हैं. बड़ी बात यह है दोनों ही उपचुनाव आदिवासी अंचल में है. यहां ट्राइबल बेल्ट में बीटीपी का अच्छा खासा प्रभाव है. बीटीपी ने पिछली बार पहली बार विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) लड़ा और दो सीटों पर जीत दर्ज करायी थी. जबकि रालोप यहां राजनीतिक जमीन की तलाश कर रही है.

पिछले विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में भारतीय ट्राइबल पार्टी ने चौंकाने वाला प्रदर्शन करते हुए आदिवासी क्षेत्र में 2 सीटें जीतीं थी. पहली बार चुनाव लड़ी पार्टी ने दूसरी कुछ सीटों पर भी अच्छे वोट बटोरे थे. अब दो सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव के जरिए पार्टी अपना दायरा फैलाने का प्रयास करेगी. भारतीय ट्राइबल पार्टी दोनों सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी. जिन दोनों सीटों पर उपचुनाव होने हैं वो दोनों ही सीटें आदिवासी क्षेत्र की है. इस आदिवासी क्षेत्र में बीटीपी का अच्छा खासा प्रभाव है. वल्लभनगर में बीटीपी पहली बार चुनाव में अपना प्रत्याशी उतारेगी जबकि धरिवायद सीट पर उसने पिछले विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में अपना प्रत्याशी उतारा था.

हालांकि धरियावद सीट पर पार्टी प्रत्याशी को 2.27 प्रतिशत वोट ही मिले थे लेकिन अब पार्टी को लगता है कि उपचुनाव में वह अच्छा प्रदर्शन कर सकती है. भारतीय ट्राइबल पार्टी भले ही खुद जीतने की स्थिति में नहीं हो लेकिन वह बीजेपी-कांग्रेस की मुश्किलें जरुर बढ़ा सकती है. बीटीपी और रालोपा दोनों ही दल फिलहाल क्षेत्र में अपने समीकरणों को समझने में लगे हैं और जल्द ही प्रत्याशियों का ऐलान किया जाएगा. बीटीपी जहां आदिवासी क्षेत्र होने के चलते अपना दबदबा कायम करने के सपने संजो रही है तो आरएलपी नए क्षेत्र में अपनी दस्तक देना चाहती है. इन दलों के दखल से बीजेपी-कांग्रेस समीकरण बिगड़ सकते हैं.

Check Also

प. बंगाल में भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष की तरह काम कर रहे हैं राज्यपाल धनखड़ : कुणाल घोष

कोलकाता (Kolkata) . तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल (West Bengal) के राज्यपाल जगदीप धनखड़ की …