अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति एक रियायत है, अधिकार नहीं – Daily Kiran
Thursday , 9 December 2021

अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति एक रियायत है, अधिकार नहीं

नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने कहा कि सभी सरकारी रिक्तियों के लिए अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति एक रियायत है, अधिकार नहीं है. न्यायालय ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 14 और 16 के तहत सभी सरकारी रिक्तियों के लिए अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति में सभी उम्मीदवारों को समान अवसर प्रदान किया जाना चाहिए, लेकिन मानदंडों को लेकर अपवाद हो सकता है.सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) की बेंच ने कहा,अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति को लेकर इस अदालत के निर्णयों के क्रम में निर्धारित कानून के अनुसार, संविधान के अनुच्छेद 14 और 16 के तहत सभी सरकारी रिक्तियों में सभी उम्मीदवारों को समान अवसर प्रदान किया जाना चाहिए.हालांकि, एक मृत कर्मचारी के आश्रित को अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति की पेशकश उक्त मानदंडों में अपवाद है.

बेंच ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) सरकार की अपील को स्वीकार कर लिया और इलाहाबाद हाईकोर्ट की एक जज के बेंच के आदेश को रद्द कर दिया, जिसमें राज्य सरकार (State government) और पुलिस (Police) विभाग को ग्रेड- तीन सेवा में अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति के लिए एक महिला की उम्मीदवारी पर विचार करने का निर्देश दिया गया था. शीर्ष अदालत ने सिंगल जज की बेंच के आदेश को भी बहाल कर दिया जिसे खंडबेंच ने खारिज कर दिया था.

Check Also

ट्राई ने नंबर पोर्ट कराना और ज्यादा आसान किया

मुंबई (Mumbai) .टेलिकॉम कंपनियों ने अपने प्रीपेड प्लान को पहले के मुकाबले काफी महंगा कर …