Wednesday , 25 November 2020

एप्पल ने छोटी कंपनियों के लिए ऐप स्टोर कमीशन घटाकर 15 प्रतिशत किया


नई ‎दिल्ली . प्रौद्योगिकी कंपनी एप्पल ने कहा कि उसने ऐप विकसित करने वाली छोटी कंपनियों के लिए अपने ऐप स्टोर के कमीशन की दर को आधा घटाकर 15 प्रतिशत कर दिया है. छोटी कंपनियों की श्रेणी में मंच पर 10 लाख डॉलर (Dollar) (करीब 7.4 करोड़ रुपए) की सालाना मुनाफा कमाने वाली इकाइयां आएंगी. ऐप विकसित करने वालों से अधिक शुल्क लेने को लेकर पूर्व में एप्पल और गूगल जैसी प्रमुख प्रौद्योगिकी कंपनियों की आलोचना होती रही है.

एप्पल ने कहा कि नए डेवलपर कार्यक्रम से नवप्रवर्तन को गति मिलेगी और इसका फायदा छोटी कंपनियां तथा स्वतंत्र रूप से ऐप पर काम करने वालों को अपना कारोबार बढ़ाने में मदद मिलेगी. कंपनी के अनुसार नया ऐप स्टोर लघु व्यापार कार्यक्रम से उन इकाइयों को लाभ होगा, जो डिजिटल सामान और सेवाएं स्टोर पर बेचती हैं. उन्हें भुगतान वाले ऐप को लेकर अब कम कमीशन देना होगा.

घटी हुई दर के लिए वे इकाइयां पात्र होंगी, जिनकी पिछले साल कमाई 10 लाख डॉलर (Dollar) तक रही है. एप स्टोर लघु व्यापार कार्यक्रम एक जनवरी, 2021 को शुरू होगा. इसे ऐसे समय शुरू किया जा रहा जब लघु और स्वतंत्र डेवलपर लगातार और अभूतपूर्व वैश्विक आर्थिक चुनौतियों के दौरान भी नवप्रवर्तन पर काम कर रहे हैं. एप्पल ने कहा कि कमीशन कम होने का मतलब है कि ऐप के विकास से जुड़ी छोटी कंपनियों और उभरते उद्यमियों के पास निवेश के लिए अधिक राशि बचेगी और वे ऐप स्टोर अपना कामकाज बढ़ा सकेंगे.