प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए नोएडा में शुरू हुआ एंटी स्मॉग टावर

नोएडा, 27 अक्टूबर . नोएडा में धीरे-धीरे प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है और आने वाले दिनों में जिस तरीके से तापमान में गिरावट होगी, नोएडा वासियों को स्मॉग का सामना भी करना पड़ेगा. इसे अभी से नियंत्रित करने के लिए नोएडा के सेक्टर 16 ए में एंटी स्मॉग टावर शुरू किया गया है.

ये टावर 1 वर्ग किलोमीटर तक के इलाके को प्रदूषण से मुक्त करेगा और 65 से लेकर 80 प्रतिशत तक यह पीएम2.5 और पीएम10 के कणों को साफ करेगा. इसके साथ जिले में 11 हॉटस्पॉट बनाए गए हैं, जहां विशेष अभियान चलाया जाएगा.

इस एंटी स्मॉग टावर को सेक्टर-16ए की ग्रीन बेल्ट में 400 वर्गमीटर जमीन पर डीएनडी के पास स्थापित किया गया है. यह टावर एक वर्ग किमी की परिधि में प्रदूषित वायु को शुद्ध करेगा.

दरअसल, सर्दी बढ़ने के साथ सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर (एसपीएम) सल्फर डाई आक्साइड, नाइट्रोजन के ऑक्साइड एवं कार्बन मानो ऑक्साइड प्रदूषित करते हैं. दावा किया गया था कि टावर इन प्रदूषित गैस पर भी असरदार है.

इस टावर की बहुत विशेषताएं हैं, जिनके मुताबिक इसकी क्षमता 80,000 घन मीटर प्रतिघंटा है. टावर की ऊंचाई 20 मीटर, आवरण का व्यास 4.5 मीटर, आधार का व्यास 7 मीटर और इसका भार 37 मीट्रिक टन है. इसके फिल्ट्रेशन कण का आकार 2.5 तक है.

प्राधिकरण के अधिकारी ने बताया कि ये टावर पीएम2.5 कणों को 65 से 80 प्रतिशत तक साफ कर सकता है. वहीं विश्लेषणात्मक अध्ययन के समय 50 से 250 मीटर के रेडियस में टावर पीएम 2.5 के कणों को 19 प्रतिशत और पीएम 10 के कणों को 19 प्रतिशत तक साफ कर सकता है.

जिले के 11 हॉट स्पॉट चिन्हित किए गए हैं जिनमें यमुना पुश्ता रोड, सेक्टर-115, 116, 74 से 79, नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस वे, सेक्टर-150, दादरी रोड, सेक्टर-62 से 104, सेक्टर-62, ग्रेटर नोएडा वेस्ट, यूपीएसआईडी, सूरजपुर साइट सी, तिलपता, परी चौक, कासना, पुलिस लाइन सूरजपुर से गौर चौक शामिल हैं.

पीकेटी/

Check Also

दिल्ली में जामिया कैंपस में हुई झड़प में 3 घायल

नई दिल्ली, 2 मार्च . जामिया मिलिया इस्लामिया (जेएमआई) परिसर में दो समूहों के बीच …