इमरान खान की सिफर विफलता के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान के साथ संचार बंद किया

इस्लामाबाद, 19 अक्टूबर . एक वरिष्ठ राजनयिक ने खुलासा किया है कि पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के सिफर विवाद के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकारियों ने पाकिस्तानी समकक्षों के साथ संचार बंद कर दिया है. यह जानकारी मीडिया की खबरों में दी गई.

इमरान खान ने पिछले साल 27 मार्च को एक सार्वजनिक रैली के दौरान कागज का एक टुकड़ा लहराया था और इसे अपने भाषण में एक सिफर की नकल के रूप में चित्रित किया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि अमेरिका उन्हें सत्ता से बाहर करना चाहता है.

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी अधिकारियों के संचार ठप होने के बारे में खुलासा फैसल तिर्मजी ने किया, जो अमेरिका से संबंधित मामलों को देखने वाले विदेश मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव थे.

उन्होंने संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) को विवरण बताया क्योंकि निकाय ने सिफर मामले की जांच के लिए विदेश मंत्रालय और प्रधानमंत्री कार्यालय में संबंधित अधिकारियों का साक्षात्कार लिया था.

अब संयुक्त अरब अमीरात में पाकिस्तान के राजदूत के रूप में कार्यरत तिर्मिज़ी ने कहा, “अमेरिका ने हमारे साथ संचार बंद कर दिया था. अमेरिका ने पाकिस्तान से तत्कालीन प्रधानमंत्री द्वारा दिखाए जा रहे कथित सिफर को साझा करने के लिए लिखित रूप में कहा था.”

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी अधिकारियों ने पाकिस्तानी समकक्षों से कहा कि अगर गुप्त बातचीत को सार्वजनिक चर्चा का हिस्सा बनाया गया तो वे उनके साथ स्पष्ट चर्चा नहीं करेंगे.

तिर्मिज़ी ने कहा, विदेश कार्यालय ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इमरान खान और पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरेशी को एक सलाह जारी की, जिसमें उन्हें राजनीतिक लाभ के लिए राजनयिक केबलों का उपयोग करने के परिणामों के बारे में बताया गया.

इमरान फिलहाल राजनयिक केबल की ‘सामग्री लीक’ करने के आरोप में जेल में हैं, क्योंकि 18 अगस्त को उनके खिलाफ आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम 1923 के तहत मामला दर्ज किया गया था.

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव आजम खान ने भी एफआईए अधिकारियों को बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री अपने खिलाफ अविश्‍वास प्रस्ताव को विफल करने के लिए सेना की मदद चाहते थे.

पूर्व प्रधान सचिव ने कहा कि इमरान खान ने 28 मार्च को (पत्र दिखाने के एक दिन बाद) एक बैठक बुलाई और तत्कालीन विदेश सचिव सोहेल महमूद से सिफर की सामग्री को पढ़ने के लिए कहा.

जियो न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, आजम ने कहा, “मुझे लगता है कि वह (इमरान खान) सेना के शीर्ष नेतृत्व पर दबाव बनाना चाहते थे. पूर्व प्रधानमंत्री चाहते थे कि अविश्‍वास प्रस्ताव को विफल करने में सेना उनकी मदद करे.”

एसजीके

Check Also

काहिरा बैठक में हमास की ओर से कोई नया प्रस्ताव नहीं : इज़राइल

जेरूसलम, 15 फरवरी . इजराइल ने कहा है कि उसे काहिरा बैठक में संघर्ष विराम …