Friday , 25 June 2021

बिहार विधानसभा में लोकतंत्र पर किया गया कातिलाना हमला : अखिलेश


लखनऊ (Lucknow) . बिहार (Bihar) विधानसभा में मंगलवार (Tuesday) को विशेष सशस्त्र पुलिस (Police) विधेयक को लेकर जमकर हंगामा हुआ. आरोप है कि राजद विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को बंधक बना लिया. इसके बाद पुलिस (Police) विधानसभा के अंदर घुसी और विपक्ष के विधायकों को सदन के जबरन बाहर निकाला. इस दौरान जो तस्वीरें सामने आईं, उस पर विपक्ष ने बिहार (Bihar) पुलिस (Police) को कटघरे में खड़ा कर दिया है. यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घटना की निंदा की है.

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, बिहार (Bihar) विधानसभा में सशस्त्र बलों द्वारा विधायकों पर हमला आपराधिक कृत्य है. सड़क पर बेरोजगार युवाओं पर भी जो हमले हुए वे दिखाते हैं कि सत्ता मिलने के बाद भाजपाई सरकारें जनता को क्या समझती हैं. निंदनीय! बिहार (Bihar) में लोकतंत्र पर कातिलाना हमला हुआ है. दरअसल, बिहार (Bihar) विधानसभा में शाम को सदन की कार्यवाही होनी थी, लेकिन उससे पहले राजद समेत तमाम विपक्ष के विधायक विधानसभा अध्यक्ष के गेट पर बैठ गए और अध्यक्ष को बंधक बना लिया. इसके बाद अतिरिक्त पुलिस (Police) बल को बुलाया गया.

पुलिस (Police) अध्यक्ष के गेट पर बैठे विधायकों को हटाने के लिए बारी-बारी से सबको बाहर उठाकर फेंकने लगी. इस दौरान राजद विधायक सतीश कुमार को चोट लग गईं, उन्हें अस्पताल भेजा गया. विधायक सत्येंद्र कुमार ने आरोप लगाया कि उनके साथ मारपीट की गई. छाती पर बूट रखकर मारा गया. विधायक ने दावा किया कि उनके छाती पर चोट लगी है. यह ज्यादती नहीं, लोकतंत्र की हत्या (Murder) है. महिला विधायकों को भी मारा गया है. कई विधायकों को जमकर पीटा. घसीट-घसीट कर बाहर किया. राजद विधायम किरण देवी, कांग्रेस विधायक प्रतिमा कुमारी और राजद विधायक अनिता देवी ने पुलिस (Police) पर मारपीट करने का आरोप लगाया है.

Please share this news