आखिर नेताजी पर कब तक लगा रहेगा यह दाग सरकार से कदम उठाने की मांग – Daily Kiran
Thursday , 28 October 2021

आखिर नेताजी पर कब तक लगा रहेगा यह दाग सरकार से कदम उठाने की मांग

नई दिल्ली (New Delhi) . छह दशक बीत चुके हैं. इसके बावजूद भारत सरकार नेताजी पर लगा अंतर्राष्ट्रीय युद्ध अपराधी होने का आरोप हटवा नहीं पाई है. यह बात नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रपौत्री एवं अखिल भारत हिन्दू महासभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष राज चौधरी ने की. उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने इस मामले में ठोस पहल न की तो महासभा खुद संयुक्त राष्ट्र (यूएन) का दरवाजा खटखटाएंगी. महासभा की अध्यक्ष ने गुरुवार (Thursday) को वृन्दावन के रामकृष्ण मिशन परिसर स्थित स्वामी विवेकानन्द ऑडिटोरियम में आयोजित दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के समापन अवसर पर यह बातें कहीं. राज ने कहा कि हम आजादी की 75वीं सालगिरह मना रहे हैं. लेकिन आज भी आजादी की लड़ाई के प्रमुख क्रांतिकारी नेताजी सुभाषचंद्र बोस पर अंतरराष्ट्रीय युद्ध अपराधी होने का आरोप नहीं हटवा पाए हैं. दुनिया के कई अंतरराष्ट्रीय संगठन उन्हें प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से युद्ध अपराधी दर्शाते हैं. यह हम सभी के लिए बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है.

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि अखिल भारत हिन्दू महासभा भारत सरकार से इस मामले में अपेक्षित कार्यवाही किए जाने के साथ नेताजी को ‘राष्ट्रपुत्र एवं स्वतंत्रता सेनानी परिवारों को ‘राष्ट्र परिवार घोषित करने की मांग करेगी. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि गलत इतिहास गढे़ जाने की वजह से लोग नाथूराम गोडसे को महात्मा गांधी काहत्या (Murder) रा समझते हैं. जबकि इसके लिए तत्कालीन जवाहरलाल नेहरू सरकार दोषी है. उन्होंने कहा कि गोडसे के गोली मारने के 45 मिनट बाद बापू की मौत हुई थी. राज ने कहा कि अगर गांधी जी को समय पर उचित इलाज मिलता तो शायद उनकी मौत नहीं होती. राज ने कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) को जैव रासायनिक युद्ध की उपज बताते हुए इसकी शुरुआत करने वालों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चिह्नित कर सजा देने की मांग की. गौरतलब है कि राज चौधरी नेताजी के भांजे प्रभात सरकार की बेटी स्वप्ना सरकार की पुत्री हैं. प्रभात सरकार नेताजी की बहन स्नेहलता के पुत्र थे.

Please share this news

Check Also

कांग्रेस देश और प्रदेश में नाम की बची, ये क्या कम उपलब्धि है:जयराम

करसोग . ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर का चुनाव चिन्ह कमल नंबर एक पर है और वो …