Tuesday , 20 October 2020

आप सरकार के विश्लेषण में खुलासा : 30 से 40 फीसदी मामले उन परिवारों से हैं, जहां पहले भी मामले आ चुके


नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली की आप सरकार (Government) के स्वास्थ्य विभाग के विश्लेषण के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में अगस्त के अंतिम सप्ताह में इसके पिछले सप्ताह के मुकाबले कोरोना संक्रमण के 35 फीसदी अधिक मामले सामने आए. विश्लेषण के मुताबिक जो नए मामले सामने आ रहे हैं,उसमें 30 से 40 फीसदी मामले उन परिवारों से हैं, जहां पहले भी मामले आ चुके हैं. स्वास्थ्य विभाग ने अगस्त में कोविड-19 (Covid-19) के मामलों का विश्लेषण करने पर पाया कि कोरोना संक्रमण ग्रामीण और मध्यमवर्गीय इलाकों में अधिक है, और प्रवासी लोगों के इलाकों में भी मामले बढ़ रहे हैं.

मामले बढ़ने की एक वजह लोगों द्वारा एहितयाती उपायों पर ध्यान नहीं देना है.
संक्रमण फैलने के अन्य कारणों में त्यौहार का मौसम, कोविड-19 (Covid-19) का संदेह होने पर भी देर से जांच करवाना, संक्रमितों के संपर्क में आना, प्रवासियों का लौटना और अनलॉक (लॉकडाउन (Lockdown) से चरणबद्ध तरीके से बाहर निकलने की प्रक्रिया) के कदम हैं. बीते कुछ दिन में नए मामले और उपचाराधीन मरीज भी बढ़े हैं. अगस्त के अंतिम सप्ताह में जब संक्रमण के मामले बढ़ रहे थे,तब मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि लोग आत्मसंतुष्ट न हों. उन्होंने कहा था कि लक्षण नजर आने पर अधिक से अधिक संख्या में लोग जांच करवाएं.

केजरीवाल ने कहा था,अत्यधिक आत्मविश्वास के साथ कुछ लोग सोचते हैं कि लक्षण नजर आने पर भी व ठीक हो जाएंगे. उन्हें अहसास नहीं होता कि समय पर जांच नहीं करवाने पर वे अपने आसपास के कई लोगों को संक्रमित कर सकते है. किसी भी सरकारी अस्पताल या दवाखाने में नि:शुल्क जांच हो सकती है. स्वास्थ्य जानकारों ने कहा कि कई लोगों को लगता है कि मामूली लक्षण हैं, वे ठीक हो जाएंगे. लोगों को यह डर भी लगता है कि अधिकारी उनके घर के बाहर स्टिकर चिपका देंगे और उनके पड़ोसियों को भी पता चल जाएगा.