दिल्ली में काबिज आप को पंजाब में दिखाई दे रही उम्मीद की किरण

नई दिल्ली (New Delhi) .  दिल्ली में लगातार 3 विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में एतिहासिक जीत तर्ज करने वाली आम आदमी पार्टी अगले साल होने वाले 6 राज्यों में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) लड़ेगी. इनमें सबसे राज्य तो उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) है, लेकिन आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल की खास नजर पंजाब (Punjab) पर है.

बताया जा रहा है कि 2017 के पंजाब (Punjab) विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में की गई बड़ी भूल से सबक लेते हुए 2022 के चुनाव में आम आदमी पार्टी मुख्यमंत्री (Chief Minister) चेहरे के साथ उतरने की तैयारी कर रही है. इतना ही नहीं, पंजाब (Punjab) के एक दिवसीय दौरे पर गए दिल्ली के मुख्यमंत्री (Chief Minister) और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बड़ा एलान किया. उन्होंने कहा है कि आम आदमी पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद का दावेदार सिख समाज से ही होगा. अरविंद केजरीवाल से ने एक सवाल के जवाब में कहा कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद का चेहरा समय आने पर सबको बता दिया जाएगा. अरविंद केजरीवाल समेत आप के वरिष्ठ नेताओं का मानना है कि पहले अकाल दल और अब कांग्रेस को आजमाने के बाद बदहाल पंजाब (Punjab) के लोग अब आम आदमी पार्टी को मौका देने की सोच बैठे हैं. बता दें कि आम आदमी पार्टी पंजाब (Punjab) विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) 2022 में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया था.

आप के विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में उम्दा प्रदर्शन का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है, 20 सीटें जीतकर अकाल दल को छोड़कर विधासभा में मुख्य विपक्षी दल भी बनी. इस बीच बसपा और शिअद के गठबंधन के बाद समीकरणों में बदलाव भी आया है, लेकिन आम आदमी पार्टी के नेताओं को उम्मीद है कि वह न केवल अच्छा प्रदर्शन करेंगे, बल्कि कांग्रेस को सत्ता से बेदखलकर आप पंजाब (Punjab) में अगले सरकार बनाएगी. आम आदमी पार्टी के पंजाब (Punjab) के नेताओं की मानें तो दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने एक दिवसीय दौरे के दौरान कैडरों को न केवल उत्साहित किया, बल्कि अब तो पार्टी सभी 117 सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी. राघव चड्ढा (सह-प्रभारी, आम आदमी पार्टी, पंजाब) का कहना है कि पंजाब (Punjab) में सभी सीटों पर पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी. इस बार बाहरी नहीं, बल्कि स्थानीय व पंजाबी नेताओं के हाथ में चुनाव की कमान रहेगी. तय रणनीति के हिसाब से उम्मीदवारों व मुख्यमंत्री (Chief Minister) चेहरे की घोषणा कर दी जाएगी.  

आप ने गुजरात (Gujarat) में स्थानीय निकाय चुनाव-2021 भी लड़ा था और एक तरह से अच्छा प्रदर्शन किया था, खासतौर से सूरत (Surat) में. आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल कह चुके हैं कि गुजरात (Gujarat) के लोग भाजपा शासन से तंग आ चुके हैं. कांग्रेस ख़त्म हो चुकी है. दिल्ली में हुए आप सरकार के शानदार कामों से गुजरात (Gujarat) के लोग बेहद प्रभावित हैं और आम आदमी पार्टी की ओर बड़ी उम्मीद से देख रहे हैं. 

Please share this news