Wednesday , 2 December 2020

गिद्धों की बारां में दिखी 2 विलुप्त होती प्रजाति


जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan) के बारां जिले के ईको सिस्टम से तेजी से गायब हो रहे गिद्धों की संकटग्रस्त दो प्रजातियों को, अटरू उपखंड के, शेरगढ़ अभ्यारण्य के जंगलों ने बचा लिया है और विलुप्त होती गिद्धों की प्रजाति यहां बिना प्रयास के पनप रही है. दरअसल, बिना किसी मानवीय प्रयास और संरक्षण प्लान के शेरगढ़ अभयारण्य में 100 से ज्यादा गिद्धों की मौजूदगी की पुष्टि हुई है अहम बात यह है कि, वह नेस्टिंग और ब्रीडिंग भी कर रहे है.

विलुप्त होने के कगार पर पहुंचे सफेद पीठ वाले गिद्ध जिप्स बेंगालेंसिस और लोंग बिल्ड जिप्स इंडीकस प्रजाति के गिद्ध की बारापाटी इलाके में नियमित रूप से नजर आ रहे हैं लंबे अंतराल के बाद यह अभ्यारण्य में एक साथ देखा गया, गिद्धों का सबसे बड़ा समूह है. करीब एक दशक पहले शेरगढ़ अभ्यारण्य में गिद्धों की वापसी हुई थी. तब इनकी संख्या नाम मात्र रही. फिर वर्ष 2011 में बडोरा वन क्षेत्र में कई बार ये देखे गए थे. अब इसके करीब ही खानपुर से बारापाटी इलाके में 5 दर्जन से ज्यादा गिद्ध स्पॉट हो रहे हैं. अभ्यारण्य से जुड़े पक्षी विशेषज्ञों का कहना है कि, इन गिद्धों ने अच्छे आवास, सुरक्षित पहाड़ी घोंसलों और पर्याप्त आहार मिलने से अभ्यारण्य में स्थाई डेरा डाल लिया होगा. वे यहां ब्रीडिंग भी कर रहे हैं. लगातार बढ़ रही संख्या इसका प्रमाण है.