दिल्ली में एलजीबीटी समुदाय के 2 बांग्लादेशी नागरिकों का यौन उत्पीड़न, 3 गिफ्तार

नई दिल्ली, 19 अक्टूबर . पूर्वी दिल्ली के एक पार्क में एलजीबीटी समुदाय के दो बांग्लादेशी नागरिकों को पांच व्यक्तियों ने कथित तौर पर अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने के लिए मजबूर किया. पुलिस ने इस सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. एक अधिकारी ने गुरुवार को यह जानकारी दी.

पुलिस के मुताबिक, बुधवार रात करीब एक बजे शकरपुर थाने में बने पुलिस कंट्रोल रूम को बांग्लादेशी नागरिकों के साथ दुष्कर्म किए जाने की सूचना मिली.

कॉल के जवाब में एक पुलिस टीम को घटनास्थल पर भेजा गया. शुरु जांच के दौरान, यह पता चला कि 22 वर्षीय व्यक्ति रोनी (बदला हुआ नाम), शकरपुर का निवासी और 27 वर्षीय बांग्लादेशी नागरिक बोनी (बदला हुआ नाम) के साथ रह रहा था.

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (पूर्व) अचिन गर्ग ने कहा, “रोनी का दोस्त जोनी घूमने के लिए के लिए बांग्लादेश से दिल्ली आया था और उनके साथ रह रहा था. वे सभी एलजीबीटी समुदाय से हैं.”

मंगलवार की रात रोनी और जोनी शकरपुर के स्कूल ब्लॉक में रामलीला देखने गए थे.

रात करीब 11:30 बजे जब वे घर लौट रहे थे, तो रोनी का सामना अपने पुराने दोस्त राज (बदला हुआ नाम) से हुआ, जिससे उसकी मुलाकात एक समलैंगिक डेटिंग ऐप के जरिए हुई थी.

“राज” के साथ दो अन्य व्यक्ति भी थे. राज ने रोनी की इच्छा के बारे में पूछा, लेकिन रोनी ने मना कर दिया और राज को बताया कि जोनी भी समलैंगिक है.

राज और जोनी दोनों रिश्ते को आगे बढ़ाने के लिए सहमत हुए. वे सभी एक पार्क में गए, जहां राज और जोनी एक सुनसान इलाके में चले गए, जबकि बाकी तीन पार्क में ही रहे. अधिकारी ने कहा, कुछ मिनटों के बाद राज के दो और दोस्त उनके साथ शामिल हो गए और राज समेत सभी पांचों ने रोनी और जोनी पर हमला किया और उनके साथ जबरन यौनाचार किया.

घटना के बाद रोनी और जोनी अपने घर लौट आए और अपने दोस्त बोनी को घटना के बारे में बताया तो उसने पीसीआर से संपर्क किया.

जांच के दौरान सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की समीक्षा की गई, और मानव खुफिया के माध्यम से क्षेत्र में एलजीबीटी समुदाय के सदस्यों की मौजूदगी के बारे में जानकारी एकत्र की गई.

अधिकारी ने कहा, “पीड़ितों से संदिग्धों के विवरण प्राप्त किए गए और क्षेत्र में रहने वाले एलजीबीटी समुदाय के सदस्यों के बारे में खुफिया जानकारी जुटाई गई. काफी प्रयासों के बाद 12 घंटों के भीतर कुछ संदिग्धों को पकड़ा गया और उनसे गहन पूछताछ की गई.”

अधिकारी ने कहा, “आरोपी व्यक्तियों की पहचान स्थापित कर ली गई है और पांच आरोपियों में से तीन व्यक्तियों, देवाशीष वर्मा (20), सुरजीत (21) और आर्यन, जिसे गोलू (20) के नाम से भी जाना जाता है, को गिरफ्तार कर लिया गया है.”

एसजीके

Check Also

असम के मुख्यमंत्री ने सिख कट्टरपंथी संगठन की ‘धमकी’ को महत्व नहीं दिया

गुवाहाटी, 1 मार्च . असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने शुक्रवार को एक खालिस्तानी …