नौकरी का झांसा देकर रुपए ऐंठने के मामले में 2 अभियुक्त गिरफ्तार

उदयपुर (Udaipur). उदयपुर (Udaipur) के थाना बेकरिया में दिनांक 10.12.2020 को प्रार्थी सुरेश ताराचन्द द्वारा एक लिखित रिपोर्ट इस आशय की पेश की कि एक वर्ष पुर्व राणाराम व राजेश पिता चेनिया राम बडगुर्जर निवासी पाडा पद अलवर से जान पहचान हुई. जो हमारे क्षेत्र में एनजीओ व स्कुल चलाने का काम करता है. जिसने कोटडा में भी आधारा विंग नाम से स्कुल खोल रखा है. उक्त राणाराम, राजेश के यहां पर खाना बनाने का काम करता है. जिसने मेरे भाई कमलेश को राजेश से मिलवाया और राजेश द्वारा मेरे भाई को सचिवालय से अच्छी जान पहचान होने एवं जिला परिषद में वेकेन्सी होने का बताया और कहा कि आपको जिला परिषद मंे नौकरी लगवा दुंगा और मेरी जान पहचान व मेरे रिश्तेदार सचिवालय जयपुर (jaipur)में बडे उंचे पद पर है.

उन्हांेने मुझे कहा कि कोई बन्दा हो जिसे नौकरी की आवश्यकता हो तो उनको जिला परिषद की वेकेन्सी में नोकरी लगवा देंगे. जिसपर मेरे भाई ने राजेश बडगुर्जर पर विश्वास कर लिया एवं मेरे भाई द्वारा 1,00,000 (एक लाख) रुपये का चैक राजेश बडगुर्जर को नोकरी दिलाने के नामपर हस्ताक्षरित जारी कर दिया. उसके बाद टुकडो टुकडो में मेरे भाई से 80,000 रुपये नकद और प्राप्त कर लिये और विश्वास दिलाया कि मैं जल्द ही जिला परिषद से दस्तावेज निकालकर तुम्हें नौकरी लगवा दुंगा एवं और कोई बन्दा हो जिसको नौकरी की आवश्यकता हो मुझसे मिलवाना. तभी मेरे भाई ने मुझे फोन कर बताया कि राजेश सचिवालय से अच्छी जान पहचान है एवं हमारे ईलाके मंे कई वर्षो से स्कुल व एन जी ओ चलाने का काम करते है. इस पर मैने अपने भाई पर विश्वास कर राजेश बडगुर्जर से बात की तो उसने भी मेरे भाई को नोकरी जल्द ही दिलवाने का आश्वासन दिया. जिसमें उन्होंने मुझे अपने खाते के नम्बर दिये और कहा कि ईसमें एक लाख रुपये जमा करवा दो तो मेरे द्वारा दिनांक 28.06.2019 को एक लाख रुपये बताये गये खाते में जमा करवाये. उसके बाद उक्त व्यक्ति ने हम दोनो भाईयो को जयपुर (jaipur)सचिवालय मंे चलने को कहा तो हम तीनों दिनांक 30.07.2019 को सचिवालय में राजेश बडगुर्जर के साथ गये.

जहां उक्त व्यक्ति ने हमें अन्दर ले जाकर हमें एक कमरे के बाहर बिठा दिया एवं कहा कि मै साहब से बात करके आ रहा हुं तभी थोडी देर बाद में राजेश बडगुर्जर हाथ मंे एक कागज लेकर आया. जिसमें ग्रामिण विकाश एवं पंचायती राज विभाग लिखा हुआ था, उस पत्र पर हम दोनो भाई एवं एक व्यक्ति एवं एक महिला का और नाम लिखा हुआ था. जिसमें कहा कि तुम चारो का काम हो गया है बस जिला परिषद उदयपुर (Udaipur) में जाकर आपको दस्तावेज जमा करवाकर जोईनिंग लेनी है. तभी उसने हम दोनो भाईयो से असल दस्तावेज हमारे शिक्षा संबंधित आधार कार्ड, पेन कार्ड स्वयं ने ले लिये और कहा कि अब साहब को पेशे देने है तभी हमने 75,000 रुपये नकद राजेश बडगर्जर को दिये. उसके बाद दिनांक 19.08.2019 को उक्त व्यक्ति ने हमको फोन कर जिला कलेक्टर (Collector) कार्यालय उदयपुर (Udaipur) मंे बुलाया और केंटीन में ले जाकर कहा कि तुम्हारा जोईनिंग तैयार हो रहा है तुम मुझे कुछ पैसे दो जो में विभाग के कर्मचारियो को देकर आता हुं, तभी उक्त जिला कलेक्टर (Collector) कार्यालय केंटीन मंे मेरे द्वारा 10,000 रुपये नकद दिये एवं मेरे भाई ने 20,000 रुपये उसके बताये हुये खाते मंे जमा करवायें.

उसके बाद वह हमें आश्वासन देकर गया कि मै कार्यालय में जाकर आता हुं तुम यही बैठना तभी आधे घन्टे बाद राजेश आया और उसने कहा कि बस जोईनिंग लेटर पर साहब के हस्ताक्षर बाकी है एक दो दिन में हस्ताक्षर हो जायेंगे और तुम लोग आकर नौकरी जोईन कर लेना. यह कहकर वह चला गया बाद मंे फोन कर दुंगा 5-6 दिन बाद हम दोनो भाई उदयपुर (Udaipur) आकर जिला परिषद कार्यालय में आकर पता चला कि उक्त व्यक्ति ने हमारे साथ छल कपट कर नौकरी दिलाने के नामपर घोखाधडी कारित कर हम दोनो भाईयो से कुल करीब 4,00,000 रुपये ऐठ लिये है. वगैरा रिपोर्ट पर प्रकरण संख्या 125/2020 धारा 420 भादस में दर्ज कर अनुसंधान शुरु किया गया.

जिला पुलिस (Police) अधीक्षक डॉ. राजीव पचार के निर्देशानुसार अन्नत कुमार अतिरिक्त पुलिस (Police) अधीक्षक, मुख्यालय एवं भुपेन्द्र सिंह पुलिस (Police) उप अधीक्षक वृत कोटडा के सुपरविजन में शंरकलाल राव थानाधिकारी बेकरिया मय टीम द्वारा प्रकरण में वांछित मुल्जिमान 01. राजेश बडगुर्जर पिता चेन्याराम निवासी पाडा (कट्टी घाटी), अलवर सदर व 02. राणाराम पिता सापाराम निवासी पावटी पुलिया, बेकरिया की तलाश कर अलग -अलग जगहों पर दबीश दी जाकर अभियुक्त राजेश बडगुर्जर को अलवर से व राणाराम को उदयपुर (Udaipur) से डिटेन कर बाद पुछताछ व अग्रीम अनुसंधान कर एक अभियुक्त राणाराम को जे.सी. व अभियुक्त राजेश बडगुर्जर का पी सी रिमाण्ड स्वीकृत कराया गया. प्रकरण में अग्रिम अनुसंधान जारी है.

टीमः- बहादुर सिंह हैडकानि.819, राजेन्द्र प्रसाद कानि.1485, सोहनलाल कानि.592, कानापुरी कानि.1058 व साईबर सेल से लोकश रायकवाल कानि..

Please share this news