Friday , 25 June 2021

बिहार में कोरोना के 15853 नए मामले दर्ज, मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह की कोरोना से मौत


नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने भारतीय दंड विधान की धारा 124 ए की वैधता की जांच करने का फैसला किया है. जस्टिस यूयू ललित, जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस केएम जोसेफ की तीन जजों वाली बेंच ने केंद्र सरकार (Central Government)को नोटिस जारी कर जवाब मांगा.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने दो पत्रकारों मणिपुर के किशोरचंद्र वांगखेम और छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के कन्हैया लाल शुक्ला की याचिका पर यह नोटिस जारी किया है. जिसमें बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उल्लंघन बताते हुए इस प्रावधान को चुनौती दी गई थी. तीन वकीलों की इसी तरह की याचिका को खारिज किए जाने के 3 महीने बाद यह कदम उठाया गया है.

दोनों पत्रकारों पर संबंधित राज्य सरकारों और केंद्र सरकार (Central Government)के खिलाफ सवाल उठाने पर धारा 124 ए के तहत मामला दर्ज किया गया है. सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक पर उनके द्वारा साझा की गई टिप्पणियों और कार्टून के लिए उनके खिलाफ धारा 124 ए के तहत एफआईआर (First Information Report) दर्ज की गई थी.

Please share this news