महाराष्ट्र के यवतमाल में 150 करोड़ साल पहले था समुद्र! जीवाश्म की खोज से अंदाजा

-ये पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के समय सागर के उथले गर्म पानी में विकसित हुए थे: प्रो चोपणे

-अब तक 340 करोड़ साल सबसे पुराना जीवाश्म ऑस्ट्रेलिया के पिलबारा क्रेटॉन में खोजा गया है

यवतमाल . महाराष्ट्र (Maharashtra) के यवतमाल जिले के वणी में पर्यावरण एवं भूगोल विशेषज्ञ प्रो सुरेश चोपणे ने एक 150 करोड़ साल प्राचीन जीवाश्म को खोजा है. उनका दावा है कि साइनोबैक्टीरिया स्ट्रोमैटोलाइट के जीवाश्म हैं. वणी में जीवाश्म खोजने वाले वैज्ञानिक प्रो सुरेश चोपणे का दावा है कि यह पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के समय सागर के उथले गर्म पानी में विकसित हुआ था. ये जीवाश्म वणी के बोडी व मोहुली परिसर में चूने के पत्थर (चुनखड़ी) में मिले हैं. जीवाश्म देखकर अंदाजा लगाया जा रहा है कि करोड़ों साल पहले वणी समुद्र के नीचे था. उनका दावा है कि यवतमाल जिले के 5 स्थानों पर पाषाण युग के और चार स्थानों पर करोड़ों साल पुराने शंख और सीप के जीवाश्म भी पाए जा चुके हैं. चोपणे पिछले दो वर्ष से इस जीवाश्म की खोज कर रहे थे.

प्रो चोपणे ने बताया कि भारत में राजस्थान (Rajasthan)के भोजुदा, मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के चित्रकूट, महाराष्ट्र (Maharashtra) के चंद्रपुर व वणी में यह जीवाश्म मिल चुके हैं. इस खोज से वणी शहर के प्राचीनतम भौगोलिक इतिहास का पता चल सकता है. वणी में मिले जीवाश्म निओ-प्रोटेरोजोइक काल के साइनोबैक्टीरिया स्ट्रोमैटोलाइट हैं. ये पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के समय सागर के उथले गर्म पानी में विकसित हुए थे. प्रोफेसर सुरेश चोपणे कहते हैं कि खनिज खाने वाले इन्हीं सूक्ष्मजीवों से मछली, सरिसृप, डायनासोर और मनुष्य जैसे बहुकोशीय प्राणी विकसित हुए. टिशियस काल में भूगर्भीय बदलावों के चलते सागर सिमटा. उथले पानी की कीचड़ का रूपांतरण चूने के पत्थरों के रूप में हुआ, तब ये सूक्ष्मजीव इसमें दब गए.

स्ट्रोमैटोलाइट एक तरह का सेडीमेंट्री फॉर्मेशन है, जिसे पत्थरों के ऊपर फोटोसिंथेटिक साइनोबैक्टीरिया बनाती है. कई बार इनकी एकदूसरे के ऊपर इतनी परत चढ़ जाती है कि इनका आकार 1 मीटर से ज्यादा हो जाता है. ये स्ट्रोमैटलाइट बेहद दुर्लभ होते हैं, हालांकि दुनियाभर में कई बार ये मिले हैं, जिनसे पृथ्वी की उत्पत्ति का पता चलता है. उसके प्राचीन इतिहास की जानकारी मिलती है. ज्यादातर ये नमकीन पाने वाले स्थानों पर मिलते हैं. जैसे समुद्र के तट. लेकिन महाराष्ट्र (Maharashtra) के यवतमाल के वणी में समुद्र नहीं है. इसका मतलब ये है कि 150 करोड़ साल पहले यहां पर समुद्र हुआ करता होगा. तभी वहां से साइनोबैक्टीरिया स्ट्रोमैटेलाइट के जीवाश्म मिले हैं. अब तक सबसे पुराना स्ट्रोमैटोलाइट जीवाश्म ऑस्ट्रेलिया के पिलबारा क्रेटॉन में मिला है. यह करीब 3.4 बिलियन साल यानी 340 करोड़ साल पुराना है. स्ट्रोमैटालाइट हमेशा नमकीन पानी यानी समुद्री जल में ही नहीं बनता. ये फ्रेशवाटर में होते हैं. ब्रिटिश कोलंबिया के पैविलियन लेक में भी ये मिलते हैं, जो साफ पानी का स्रोत है.

 

Please share this news