Wednesday , 16 June 2021

फौज में नौकरी के नाम पर 2 युवकों के साथ 11 लाख रुपए की ठगी

हिसार . फौज में नौकरी लगवाने के नाम पर दो युवकों के साथ 11 लाख रुपए की ठगी करने वालों ने उन्हें जॉइनिंग लेटर भी दे दिया. वह लेटर लेकर जब जॉइन करने के लिए रांची (Ranchi) पहुंचे तो इस धोखाधड़ी का पता चला. बरवाला पुलिस (Police) ने इस संदर्भ में दीपक की शिकायत पर पटियाला की तहसील खनोरी के गांव शेरगढ़ के पूर्व सरपंच अमरीक सिंह के बेटे बलजिंदर उर्फ काली तथा अपने आप को भूतपूर्व फौजी बताने वाले सेवक सिंह के खिलाफ धोखाधड़ी सहित विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है.

गांव प्रभु वाला निवासी पीड़ित दीपक ने शिकायत में कहा कि खनोरी के शेरगढ़ गांव में उसकी बहन की शादी की हुई है. उसी गांव के बलजिंदर उर्फ काली अपने दोस्त सेवक सिंह के साथ उसे 15 अक्टूबर 2019 को बरवाला के पुराना बस अड्डा पर मिला. इसके बाद उसने उससे पूछा कि वह आजकल क्या कर रहा है. मैने बताया कि फौज की भर्ती की तैयारी कर रहा हूं. बलजिंदर ने कहा कि वह उसको फौज में भर्ती करवा देगा. सेवक सिंह के संबंध फौज में उच्च अधिकारियों से है. सेवक सिंह ने कहा कि वह कई बच्चों को भर्ती करवा चुका है. मैने उसकी बात पर यकीन कर लिया और कहा कि वह नौकरी लगवा दें. उसने भर्ती के लिए साढे पांच लाख रुपए मांगे. फोन नंबर दिया और कहा कि फोन कर लेना.

उसके एक सप्ताह के बाद बलजिंदर का फोन आया कि आर्मी की भर्ती निकली है साढे पांच लाख और डॉक्यूमेंट जमा करवाने होंगे. तब वह 20 नवंबर 2019 को अपने एक दोस्त राधेश्याम के साथ पहुंचा और ओरिजिनल डॉक्यूमेंट, आधार कार्ड सभी प्रकार के प्रमाण पत्र आदि के साथ ग्यारह लाख रुपए बलजिंदर सिंह को और कागजात सेवक सिंह को दिए. इसके बाद एक फरवरी 2020 को बलजिंदर सिंह व सेवक सिंह दोनों बरवाला आए और उन्होंने फोन किया कि वह ब्राह्मण धर्मशाला के पास खड़े हैं. वहां पर आकर अपना जॉइनिंग लेटर ले जाओ तो वह अपने एक दोस्त के साथ मौके पर जाकर उन दोनों से मिले. तब उन्होंने उसे जॉइनिंग लेटर, ओरिजिनल डॉक्यूमेंट दे दिए.

उन्होंने कहा कि दीपक को 25 फरवरी 2020 को रांची (Ranchi) पहुंचना है तथा राधेश्याम को 8 मई 2020 को रांची (Ranchi) पहुंचना है. इसके बाद वह तथा राधेश्याम 23 फरवरी को रांची (Ranchi) पहुंच गए. जब उन्होंने वहां जाकर जॉइनिंग लेटर दिखाया तो उन्हें इस धोखाधड़ी के बारे में पता चला. अधिकारियों ने कहा कि जिसने भी तुम्हें यह लेटर दिया है उसने तुम्हारे साथ ठगी की है. बलजिंदर सिंह के पास फोन किया तो उसने कहा कि वह तुम्हारे पैसे वापस कर देगा. कई बार पैसे वापस लेने के लिए हामी भरता रहा. उसके बाद वहां पर पंचायत लेकर गए. उस पंचायत में उसने पैसे वापिस देने से इंकार कर दिया और धमकी भी देने लगा.

Please share this news