Wednesday , 22 May 2019

भ्रष्‍ट एडीएम विजयसिंह नाहटा के खिलाफ मुख्यालय की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं

जोधपुर, 24 अप्रैल (उदयपुर किरण). आरएसएस अधिकारी व एडीएम शहर (द्वितीय) विजयसिंह नाहटा को गिरफ्तार किए छह दिन हो गए है. इस दरम्यान उसे दो बार रिमांड पर लिया जा चुका है. प्रतिदिन नये खुलासे हो रहे हैं. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की तरफ से गिरफ्तारी के अगले ही दिन मुख्यालय को सूचना भी भेज दी गई थी. इसके बावजूद अब तक उनका पद बरकरार है.

मुख्यालय की तरफ से उनके खिलाफ अभी तक निष्कासन अथवा अन्य कोई कार्यवाही नहीं की गई है. दरअसल पीपाड़ शहर के चिरढाणी निवासी पप्पूदास की शिकायत पर एसीबी की टीम ने गत 18 अप्रेल को कार्रवाई कर एडीएम शहर (द्वितीय) विजयसिंह नाहटा को दस हजार रुप की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया था. उनके पास एडीएम शहर (तृतीय) का अतिरिक्त कार्यभार भी है. गिरफ्तारी के अगले दिन ही उसे कोर्ट में पेश कर चार दिन के रिमांड पर लिया गया था. यह रिमांड अवधि खत्म होने के बाद गत मंगलवार को दुबारा कोर्ट में पेश कर तीन दिन का और रिमांड बढ़वाया गया. एसीबी टीम को उससे पूछताछ में और भी गई राज खुलने की उम्मीद है. अब तक पूछताछ में उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के कई खुलासे हो गए है. किसी सीनियर अफसर के इतने दिनों तक पुलिस रिमांड पर रहने का संभवतया यह पहला मामला है. खास बात यह है कि नाहटा की गिरफ्तारी के छह दिन बाद भी मुख्यालय से ना तो उसके खिलाफ कोई एक्शन लिया गया है और ना ही उसे सस्पेंड कर अन्य अधिकारी को ही एडीएम सिटी द्वितीय व तृतीय पद पर लगाया है.

एसीबी की ओर से नाहटा को गिरफ्तार करने के अगले ही दिन मुख्यालय को सूचना भेज दी गई थी. इसके बावजूद अभी तक कोई आदेश जारी नहीं हो पाया है. हालांकि नाहटा के खिलाफ वर्ष 2005 में दर्ज प्रकरण में एसीबी ने चालान पेश करने के लिए अभियोजन स्वीकृति मांगी थी लेकिन सरकार ने स्वीकृति नहीं देकर नाहटा के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के निर्देश दिए थे. इस पर नाहटा के खिलाफ 16सीसीए के तहत चार्जशीट जारी की गई. यह फाइल करीब 9 साल तक कार्मिक विभाग में दबी रही. खास बात है कि 16सीसीए के तहत दी गई चार्जशीट का निस्तारण नहीं होने तक किसी भी अधिकारी को फील्ड पोस्टिंग नहीं दी जा सकती, लेकिन नाहटा इस दौरान 6 बड़े पद पर फील्ड में ही रहे.


https://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*