Sunday , 25 July 2021

प्रसार भारती ई-ऑफिस को शत प्रतिशत अपनाने के साथ हुआ पेपरलेस

नई दिल्ली (New Delhi) . तकनीक के उपयोग ने प्रसार भारती के कामकाज को पूरी तरह बदल दिया है. वहां काम की परिस्थितियां अब पहले जैसी नहीं रही क्योंकि दो साल से भी कम समय में दूरदर्शन, आकाशवाणी के 577 केन्द्रों और 22,348 कर्मचारियों ने ई-ऑफिस आधारित कामकाज के तरीके को अपना लिया है. प्रसार भारती में ई-ऑफिस के माध्यम से अच्छी तरह से स्थापित सूचना प्रौद्योगिकी आधारित कार्य संरचना इस महामारी (Epidemic) के दौरान उस समय सुविधाजनक साबित हुई जब देशभर के कर्मचारियों को लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान और उसके बाद कई तरह की सीमाओं के भीतर रहकर काम करना पड़ा. प्रसार भारती के कामकाज को अधिक कुशल और कागज-रहित बनाने के दृष्टिकोण के साथ, अगस्त 2019 में ई-ऑफिस की शुरूआत की गई थी. देशभर में प्रसार भारती के 577 केन्द्रों में से 10 प्रतिशत ने 2019 (अगस्त-दिसंबर) में ई-ऑफिस को अपनाया, 2020 में 74 प्रतिशत ने और शेष 16 प्रतिशत 18 जून, 2021 तक इससे जुड़ गए. इस संस्थान के कामकाज में जो गति और पारदर्शिता आई है, उसके तहत अब तक 50 हजार से अधिक ई-फाइलें बनाई गई हैं और प्रत्येक फाइल की ताजा स्थिति ऑनलाइन उपलब्ध है. आंतरिक स्तर पर, संबंधित विभाग अपनी फाइलों के बारे में पता लगा सकते हैं, चाहे वह आवाजाही वाले चरण में हो या भेजी गई गई हो या बंद हो चुकी हो.

Please share this news