Tuesday , 27 October 2020

साकार हुआ सीएम का संकल्प : इंदिरा रसोई योजना जरूरतमंदों के लिए बनेगी वरदान


उदयपुर. प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोग का संकल्प “कोई भूखा ना सोए“ गुरुवार को पूरा हुआ. इस संकल्प को साकार करने के लिए मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार प्रदेश भर के सभी स्थानीय निकायों में इन्दिरा रसोई का शुभारंभ हुआ. उदयपुर नगर निगम के लिए इस योजना का शुभारंभ जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने चेतक सर्कल स्थित आश्रय स्थल पर स्थापित ‘इन्दिरा रसोई’ से किया. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की पहल पर अब शहर के प्रमुख 10 स्थानों पर प्रत्येक जरूरतमंद व्यक्ति को 8 रुपये में पूर्ण सम्मान के साथ गरम व सात्विक भोजन मिलेगा. नगर निगम उदयपुर में 10 स्थानों पर तथा जिले के अन्य समस्त नगरपालिकाओं में एक-एक स्थान पर इस योजना का संचालन सेवाभावी स्वयंसेवी संस्थाओं के माध्यम से किया जा रहा है. योजना के तहत लाभार्थी को भोजन के लिए 8 रुपये देने होंगे जबकि राज्य सरकार की तरफ से 12 रुपये का अनुदान दिया जाएगा. उन्होंने इस योजना को मूर्त रूप देने के लिए नगर निगम के प्रयासों की सराहना की.

इस अवसर पर उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा ने इसे शहरवासियों के लिए बड़ी सौगात बताया. उन्होंने कहा कि शहर के विभिन्न मुख्यालयों से आने वाले मजदूरों, राहगीरों व आमजनांें के लिए यह योजना सार्थक साबित होगी. नगर निगम महापौर गोविन्द सिंह टांक ने कहा कि इन्दिरा रसोई का संचालन सराहनीय प्रयास है, इसमें गुणवत्ता एवं स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाएगा. साथ ही यहां आने वाले व्यक्ति को पूर्ण सम्मान एवं सुविधा के साथ भोजन कराया जाएगा. उपमहापौर पारस सिंघवी ने कहा कि सभी रसोई पर नगर निगम की टीम एवं जिला स्तरीय समिति द्वारा नियमित मॉनिटरिंग की जाएगी. समाजसेवी विवेक कटारा और पंकज कुमार शर्मा ने गरीबों के हितार्थ मुख्यमंत्री के प्रयासों की सराहना करते हुए इसे पुनीत कार्य बताया.

आरंभ में नगर निगम आयुक्त कमर चौधरी ने योजना के उद्देश्य और इसके तहत की गई व्यवस्थाओं की जानकारी दी तथा बताया कियोजना के संचालन के दौरान भोजन की गुणवत्ता, कोरोना को देखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग और सरकार व प्रशासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पूरा ध्यान रखा जाएगा. योजना की मोबाईल एप के माध्यम से भी ऑनलाईन मॉनिटरिंग की जाएगी. इस अवसर पर पार्षद अरूण टांक, हितांशी शर्मा, समाजसेवी विवेक कटारा, फिरोज अहमद शेख, भगवान सोनी, योजना के प्रभारी अधिकारी शैलीसिंह सोलंकी सहित अन्य क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि, समाजसेवी एवं नगरनिगम के अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे.

अतिथियों ने भी खरीदा कूपन, लिया गुणवत्ता का जायजा

इस अवसर पर अतिथियों ने इन्दिरा रसोई के मुख्य द्वार पर फिता खोलकर और श्रीफल वधेर कर विधिवत शुभारंभ किया. शुभारंभ उपरान्त कलक्टर देवड़ा, सांसद मीणा, महापौर व उप महापौर एवं अन्य सभी अतिथियों ने काउंटर पर 8-8 रुपये अदा कर भोजन का कूपन खरीदा एवं इसे खाकर भोजन की गुणवत्ता का जायजा लिया. भोजन उपरांत सभी अतिथियों ने आमजन को यह विश्वास दिलाया कि जिले की समस्त इंदिरा रसोई पर प्रतिदिन भोजन इसी प्रकार से पूर्ण गुणवत्ता वाला उपलब्ध होगा.

इन स्थानों पर स्थापित हुई इंदिरा रसोई: उदयपुर नगर निगम में गूरु गोविन्द सिंह स्कूल के सामने चेतक सर्कल, एमबी चिकित्सालय में सहारिया धर्मशाला, धानमण्डी पुलिस स्टेशन के पास, उदियापोल आश्रय स्थल, मीरा कला मंदिर के पास पारस चौराहा, गोवर्धन विलास चुंगीनाका आश्रय स्थल, मल्लातलाई आश्रय स्थल पुलिस चौकी के पास, प्रतापनगर आश्रय स्थल, मांजी की सराय राणा प्रतापनगर रेलवे स्टेशन व आवरी माता सामुदायिक भवन में इंदिरा रसोई की स्थापना की गई है.

जन्मदिन, वर्षगांठ पर भामाशाह करा सकेंगे भोजन: आयुक्त चौधरी ने बताया कि इस रसोई के तहत कोई भी व्यक्ति अपने या परिजनों के जन्मदिन, शादी या अन्य वर्षगांठ पर दोपहर, रात्रि या दोनों समय का भोजन करा सकेंगे. इसके लिए उसे प्रति थाली 20 रुपये देने होंगे. इसके लिए भामाशाह को रजिस्टर्ड जिला स्तरीय इंदिरा रसोई के बैंक खाते या मुख्यमंत्री सहायता कोष में निर्धारित राशि जमा कराई जा सकती है. रसोई में दानदाता के सहयोग का उल्लेख भी किया जाएगा.

यह रहेगा भोजन और समय: जिले की समस्त 14 इंदिरा रसोई में सुबह 8.30 से दोपहर 1 बजे तक तथा शाम को 5 बजे से रात्रि 8 बजे तक भोजन उपलब्ध हो सकेगा. इस भोजन में लाभार्थी को प्रति थाली 100 ग्राम दाल, 100 ग्राम सब्जी, 250 ग्राम चपाती तथा अचार दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि समय-समय पर जिला स्तरीय समिति द्वारा भोजन की गुणवत्ता की औचक जांच भी की जाएगी.