Friday , 27 November 2020

महबूबा ने अनुच्छेद-370 की वापसी तक तिरंगा नहीं उठाने की कमस खाई

नगर (Srinagar) . जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) और पीडीपी की नेेता महबूबा मुुफ्ती ने कहा कि जब तक राज्य में अनुच्छेद-370 की वापसी नहीं हो जाती तब तक तिरंगा नहीं उठाएंगी. साथ ही उन्होंने दावा किया कि संकल्प पूरा होने तक चुनाव भी नहीं लड़ेंगी. महबूबा का यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शुक्रवार (Friday) को बिहार (Bihar) में पहली चुनावी रैली के बाद आया है. मोदी ने रैली में कहा था कि विपक्षी दल कश्मीर में फिर से अनुच्छेद-370 लाने की मांग कर रहे हैंं. बता देंं कि महबूबा पिछले सप्ताह ही 14 महीने की नजरबंदी के बाद रिहा हुई है.

कुछ देर बाद ही अपने घर में की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में महबूबा ने मोदी को चुनौती दे डाली. उन्होंने कहा कि कश्मीर में अनुच्छेद-370 की वापसी होने तक वे तिरंगा नहीं उठाएंगी और न ही चुनाव लड़ेंगी. महबूबा ने जम्मू-कश्मीर के झंडे की ओर इशारा करते हुए कहा कि तिरंगे से हमारा रिश्ता इस झंडे से अलग नहीं है. महबूबा ने यहां तक कह दिया कि इसके लिए अगर अपना खून भी देना पड़ा तो वह सबसे आगे रहेंगी.

महबूबा ने कहा कि मोदी को बिहार (Bihar) में वोट मांगने के लिए अनुच्छेद-370 का सहारा लेना पड़ रहा है. वे वास्तविक मुद्दों पर वह बात ही नहीं करना चाहते. हमारी लड़ाई अनुच्छेद-370 की बहाली तक ही नहीं है. बल्कि, कश्मीर मुद्दे के समाधान के लिए भी है. कश्मीर के लोगों ने जो बलिदान दिया हैै, उसे भुलाया नहीं जा सकता. एक सवाल के जवाब में महबूबा ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री मोदी पर विश्वास करने का पछतावा है. केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी देश के संविधान को अपनी पार्टी के घोषणापत्र के जैसा बनाना चाहती है.