Sunday , 25 August 2019

बाबा महाकाल की आखिर सवारी में उमड़ा आस्था का सैलाब

उज्जैन, 12 अगस्‍त (उदयपुर किरण). सोमवार को इस श्रावण मास का आखिरी सोमवार होने से जहां श्रद्धालुओं में उत्साह था वहीं बाबा महाकाल की सवारी देखने और चार स्वरूपों में दर्शन की कामना  थी. इसी भाव से अंचलों से लेकर देशभर से 2 लाख श्रद्धालु सवारी देखने जुटे. भीड़ का आलम यह था कि हर जगह केवल श्रद्धालु दिखाई दे रहे थे. रामघाट से लेकर दत्त अखाड़ा घाट तक जनसमुह फैला हुआ था. सवारी मार्ग के हालात बता रहे थे कि बाबा की सवारी देखने का कितना उत्साह है भक्तों में.

शहर में सोमवार सुबह से ही महाकाल की सवारी देखने और दर्शन करने केा लेकर लोगों के हुजूम मंदिर की ओर बढ़ रहे थे. जहां महाकाल मंदिर में दर्शनार्थियों की भारी भीड़ उमड़ी, वहीं सवारी देखने के लिए सवारी मार्ग पर उमड़े जनसमुह को देखकर अधिकारियों में भी बैचेनी रही. वे महाकाल से ही प्रार्थना करते दिखे कि सबकुछ ठीक हो जाए और सवारी सकुशल निकल जाए.

सवारी मार्ग के दोनों ओर, गलियों में,मकानों के ओटलों,छज्जों,छतों पर केवल और केवल भीड़ थी. भीड़ में बच्चे,महिलाएं तो थी ही वृद्धों में भी एक बारगी बाबा के दर्शन करने को लेकर उतावलापन दिखा. मौसम साफ और खुला होने से भीड़ में वृद्धि हुई. तय समय पर जैसे ही पालकी मंदिर के बाहर आई, जयघोष के साथ श्रद्धालुओं के बीच पालकी में विराजे बाबा महाकाल के दर्शन को लेकर आपाधापी मच गई. बेरीकेड्स और पुलिस इंतजाम छोटे पड़ते दिखे. यही स्थिति गुदरी, कहारवाड़ी होकर रामघाट तक रही.

जावड़ेकर ने किए महाकाल दर्शन 

केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को भगवान महाकालेश्वर के दर्शन किए. गर्भगृह में प्रवेश बंद के दौरान मंत्री जावड़ेकर ने बाहर से ही भगवान के दर्शन किए.

जयवर्धन सिंह भस्मार्ती में हुए शामिल 

प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास विभाग मंत्री जयवर्धन सिंह श्रावण के अंतिम सोमवार को भगवान महकालेश्वर की भस्मार्ती में शामिल हुए. पश्चात श्री सिंह ने भगवान महाकालेश्वर का पूजन- अभिषेक किया. जिपं अध्यक्ष करन कुमारिया, राजेन्द्र वशिष्ठ, दीपक मित्तल, दिलीप गरूड़, उपस्थित थे.

भस्मार्ती में शामिल हुए डेढ़ हजार श्रद्धालु 

श्रावण मास के अंतिम सोमवार को होने वाली भगवान महाकालेश्वर की भस्मार्ती में 1700 श्रद्धालु शामिल हुए. भगवान महाकालेश्वर को भोग लगाने के पश्चात झांझ और मंजीरे के वादन के साथ उनकी आरती प्रारंभ होने पर मंदिर परिसर जय महाकाल, भोले शंभू भोलेनाथ के जयकारों से गूंज उठा.

सजा बाबा महाकाल का दरबार

स्वतंत्रता दिवस के पूर्व बाबा महाकाल का दरबार तिरंगे के तीन रंगों से सजा. पं. प्रदीप गुरू की प्रेरणा से इंदौर निवासी हेमंत नीमा द्वारा मंदिर के गर्भगृह तथा नंदीहाल में पुष्प सज्जा करवाई गई. इंदौर से आए कलाकार किशोर वर्मा के साथ 20 लोगों की टीम ने बैंगलोर, पूना तथा थाईलैंड से मंगाए गए रजनीगंधा, मोगरा, गुलाब, गेंदा, ओरकिड, कार्नेशियन, एंडफोरियम, जरबेरा, डचरोज सहित अन्य 11 क्विंटल फूलों से बाबा का दरबार सजाया.

इलाहाबाद बैंक ने दान किए 1 लाख रुपये

महाकालेश्वर मंदिर प्रबंध समिति को इलाहाबाद बैंक ने 1 लाख रुपये का चेक दान दिया. बैंक द्वारा मंदिर के बाहर प्रसाद का वितरण किया गया.  उप महाप्रबंधक Bhopal एसएसपी रॉय, सहायक महाप्रबंधक इंदौर प्रभाकरन, मुख्य प्रबंधक Bhopal उमेश सोलंकी,  मुख्य प्रबंधक उज्जैन इंद्रमोहन वर्मा,  सीनियर मैनेजर एमके गुप्ता, प्रबंधक वरुण नवलकर उपस्थित थे.

Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News Today