Sunday , 29 March 2020
प्याज के बाद आलू के दोगुने हो गए रेट

प्याज के बाद आलू के दोगुने हो गए रेट

नई दिल्ली . प्याज के बाद अब आलू भी आम आदमी की जेब पर भारी पड़ रहा है. पिछले 10 दिनों में इसके रीटेल दाम 100 फीसदी से ज्यादा बढ़ गए हैं और यह 40-50 रुपए किलो बिक रहा है. पिछले साल दिसंबर के मुकाबले इसकी कीमतें दो से तीन गुना तक बढ़ी हैं. हालांकि आलू कारोबारी इसे अस्थाई ट्रेंड बता रहे हैं. कीमतें कुछ दिनों में सामान्य होने की उम्मीद की जा रही है.

दिल्ली के रीटेल बाजारों में शनिवार को आलू की औसत कीमत 40 रुपये किलो थी, जो अगले दिन 50 रुपये तक बिका. पिछले हफ्ते यह 20 से 25 रुपए की रेंज में था. आजादपुर मंडी में अधिकतम थोक कीमत 21 रुपए किलो थी, जो दिसंबर 2018 में 6-10 रुपए किलो थी. आलू कारोबारियों का कहना है कि पंजाब से नए आलू की आवक में कमी और बारिश के चलते कई इलाकों में निकासी प्रभावित होने से दाम बढ़ गए हैं.

इस साल आलू का रकबा ज्यादा

केंद्रीय आंकड़ों के मुताबिक इस साल आलू का रकबा पिछले साल के मुकाबले 3.4 फीसदी ज्यादा है और उत्पादन भी बढऩे की उम्मीद है. यूपी से नए आलू की सप्लाई जनवरी-फरवरी में शुरू होती है. आलू के अलावा ज्यादातर हरी सब्जियां भी बारिश और ओलावृष्टि के चलते महंगी हो गई हैं. गोभी, पालक, टमाटर के दाम पिछले दिसंबर के मुकाबले 50-60त्न ज्यादा हैं. दाल, चावल, गेहूं और सब्जियों की कीमतों में तेजी के चलते ही नवंबर में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक तीन साल के उच्चतम स्तर 5.54त्न पर पहुंच गया है, जो पिछले नवंबर में 2.33 था.