Saturday , 6 June 2020
दक्षिण अफ्रीकी मौलाना की कोरोना संक्रमण से मौत, तबलीगी जमात में शामिल हुए थे

दक्षिण अफ्रीकी मौलाना की कोरोना संक्रमण से मौत, तबलीगी जमात में शामिल हुए थे


नई दिल्ली (New Delhi) . निजामुद्दीन के तबलीगी जमात मरकज के कार्यक्रम में हिस्सा लेकर हाल ही में स्वदेश वापस लौटे एक दक्षिण अफ्रीकी मौलाना की कोरोना (Corona virus) संक्रमण के कारण मौत हो गयी है. यह जानकारी उनके परिजनों ने दी.

मौलाना यूसुफ टूटला (80) ने भारत के निजामुद्दीन मरकज में 1-15 मार्च तक चले तबलीगी जमात के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. यह वही मरकज है जो भारत के विभिन्न हिस्सों में वायरस संक्रमण का केंद्र बिंदु बनकर उभरा है. इसके अलावा विश्व के अन्य हिस्सों के हजारों लोगों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया था. मंगलवार (Tuesday) को मौत होने के बाद यूसुफ के शव को इस्लामिक दफन परिषद (आईबीसी) की तरफ से दिये गये एक बैग में रखकर दफनाया गया.

मौलवी के परिवार के एक सदस्य ने पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर स्थानीय मीडिया (Media) को बताया कि टूटला में भारत से लौटने के बाद से फ्लू जैसे लक्षण दिखाई देने लगे थे. बाद में निजी लैब की जांच में पता चला कि वह कोरोना (Corona virus) से संक्रमित थे. उन्होंने कहा, ‘ इलाज के बाद पिछले हफ्ते तक टूटला की सेहत में काफी सुधार हुआ था लेकिन सोमवार (Monday) सुबह से फिर से वह बीमार महसूस करने लगे. उनकी हालत तेजी से बिगड़ती गयी.’

बताया गया कि टूटला को भारत की यात्रा नहीं करने की सलाह दी गयी थी, लेकिन वह नहीं माने. टूटला का परिवार 14 दिन के लिए खुद ही पृथक वास में रह रहा है. हालांकि, अन्य किसी सदस्य में संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है.