Thursday , 15 April 2021

कोविड का खौफ बढ़ गया डिस्पोजल का उपयोग

छिंदवाड़ा (Chhindwara) . सिंगल यूज के उपयोग को सेहत, स्वच्छता और पर्यावरण के लिए भले ही घातक माना गया है लेकिन शहर में इस समय सिंगल यूज का उपयोग तेजी से बढ़ा है. एक जानकारी के मुताकिब पहले की तुलना में खपत बढ़कर दो गुना (guna) हो गई है. इसके पीछे वजह कोविड-19 (Covid-19) के संक्रमण से बचाव को लेकर बताया जा रहा है. दरअसल कोविड संक्रमण के खतरे को देखते हुए बाजारों में चाय नास्ता करने की आदत रखने वाले ऐसी प्लेट ग्लासों का उपयोग करने से बच रहे है जो दर्जनों हाथों और लबों तक पहुंचती है. इसकी जगह लोगों को सिंगल यूज में आने वाले डिस्पोजल के पात्र ज्यादा सुरक्षित लग रहे है. बाजारों में चाय- नास्ते की दुकान संचालित करने वाले ठेले और छोटी होटलों के संचालकों का कहना है कि कांच की ग्लासों को भले ही कितने अच्छे से धुलवाया जाए लोग उनकी जगह डिस्पोजल की मांग रखते है.

व्यापारियों के लिए मुसीबत

इधर डिस्पोजल और पालीथिन से जुडे कारोबारियों के सामने बडी समस्या बन गई है. उनका कहना है कि प्रतिबंधित होने की वजह से नगर निगम विक्रय पर रोक लगाता है जबकि लोग इन्हीं की मांग ज्यादा करते है. कोविड में व्यापार ठप्प रहने के बाद अब डिस्पोजल का विक्रय बढ़ा है.

जरूरी नहीं मजबूरी

सिंगल यूज और पॉलीथिन के उपयोग को लेकर लोगों का कहना है कि यह जरूरी नहीं बल्कि मजबूरी है. आमतौर पर बाजार से सामग्री खरीदने के लिए घर से कागज थैला लिए बगैर निकल जाते हैं. जिसके बाद कोई सामग्री खरीदने पर पॉलीथिन का उपयोग उनकी मजबूरी हो जाती है.

राशन वितरण की समस्याओं को लेकर पेक्स कर्मचारी संघ की बैठक चौरई

पैक्स कर्मचारी संघ की जिला कार्यकारिणी की बैठक रविवार (Sunday) को चौरई मुख्यालय में हुई. प्रांतीय अध्यक्ष अशोक मिश्रा के निर्देश पर यह बैठक बुलाई गई. संघ के ब्लाक अध्यक्ष सुशील मिश्रा के नेतृत्व में आयोजित इस बैठक में सहकारी कर्मचारियों ने मुख्य रूप से राशन वितरण कार्य में आ रही समस्याओं के निराकरण के संबंध में चर्चा की. साथ ही पीओएस मशीन के माध्यम से किसानों को खाद वितरण करने में आ रही व्यवहारिक समस्याओं पर भी चर्चा की गई. इस बैठक में संगठन विस्तार को लेकर भी संघ के सदस्यों ने मांग रखी. बैठक में विकासखण्ड के सभी सहकारी कर्मचारी सहित संघ के पदाधिकारी उपस्थित रहें.

Please share this news