Thursday , 24 June 2021

कोरोना के बढ़ते कहर को देख भारत ने की जंग तेज

नई दिल्ली (New Delhi) . भारत में कोरोना (Corona virus) के बढ़ते खतरे को देखते हुए, केंद्र सरकार (Central Government)ने कोरोना वैक्सीन के 12 करोड़ खुराक का आदेश दिया है. सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को खुराक का आदेश दिया है. सरकार का ये फैसला ऐसे समय में आया है जब देश में कोरोना (Corona virus) एक बार फिर पैर पसार रहा है. अधिकारियों और विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि यह वायरस की एक नई लहर हो सकती है जिसे देश के कई हिस्सों में देखा जा रहा है. 10.2 करोड़ खुराकों में से, 1 करोड़ खुराक कोविशिल्ड के होंगे जो SII द्वारा निर्मित किए जाएंगे. बाकी भारत बायोटेक द्वारा कोवाक्सिन के होंगे.

बता दें कि भारत में अब तक लोगों के बीच इस्तेमाल के लिए केवल इन दो टीकों को ही अनुमति दी गई है. भारत में कोरोना का कहर बढ़ गया है, मार्च की शुरुआत में एक दिन में औसतन 15,494 मामलों को जोड़ने के बाद से, देश ने पिछले सप्ताह औसतन 32,000 मामलों को दर्ज किया. विशेषज्ञों और दिल्ली, महाराष्ट्र (Maharashtra) और केरल (Kerala) के नेताओं ने केंद्र सरकार (Central Government)से या तो अधिक लोगों को खुराक देने की अनुमति देने की अपील की है. भारत में दोनों टीकों की 4.36 करोड़ खुराक लगाई जा चुकी हैं.

बता दें कि देश में 1 मार्च से आम लोगों को भी टीका लगना शुरू हो चुका है, इसके अंदर 60 साल ऊपर के सभी लोग और 45 साल से ऊपर के वे लोग हैं जिन्हें गंभीर बिमारिया हैं. 28 मार्च तक जिन लोगों की शुरुआती खुराक पड़ चुकी है, उन्हें अपना दूसरा शॉट लेने की आवश्यकता होगी. भारत का लक्ष्य जुलाई के अंत तक 30 करोड़ लोगों को टीका लगाना है जिसमें- स्वास्थ्य कार्यकर्ता, फ्रंटलाइन वर्कर्स और उनकी उम्र या कोमोरिड स्थितियों के कारण सबसे अधिक जोखिम वाले लोग शामिल हैं. लेकिन अब विशेषज्ञों का मानना ​​है कि मामलों की इस नई लहर का सामना करने के लिए जितना संभव हो सके अब लोगों को खुराक लेने की अनुमति दी जानी चाहिए. महाराष्ट्र (Maharashtra) में 27,000 से अधिक मामले सामने आए. ये एक दिन में आने वाले सबसे अधिक मामले हैं. दिल्ली में, स्वास्थ्य बुलेटिन में कहा गया कि यहां 813 नए मामले दर्ज किए गए हैं, 24 दिसंबर के बाद से आने वाले ये सबसे अधिक मामले हैं. सकारात्मक परीक्षण के नमूनों का अनुपात भी 27 दिसंबर के बाद से उच्चतम है, हालांकि यह 1.07% पर है जो कि 4% की आदर्श सीमा के तहत कम है. विशेषज्ञों ने कहा कि टीके को तेज करने की तत्काल आवश्यकता है क्योंकि दो टीके हैं और भारत में टीका दूसरी शॉट के दो सप्ताह बाद सुरक्षा प्रदान करता है – जिसका अर्थ है कि किसी व्यक्ति को उनकी खुराक शुरू होने के 42 दिन बाद ही पर्याप्त रूप से संरक्षित किया जाएगा.

Please share this news