Saturday , 11 July 2020
इतिहास बनाने से चूका अमेरिका, टली ह्यूमन स्पेस मिशन की लॉन्चिंग

इतिहास बनाने से चूका अमेरिका, टली ह्यूमन स्पेस मिशन की लॉन्चिंग

वाशिंगटन.अमेरिका एक नया इतिहास लिखने की कगार पर था लेकिन ठीक 16.54 मिनट पहले खराब मौसम के चलते इसे रोक दिया गया. 9 साल बाद अमेरिका की जमीन से कोई एस्ट्रोनॉट अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन जाने वाला था. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा कैनेडी स्पेस सेंटर से अंतरिक्ष यात्रियों को स्वदेशी रॉकेट और स्पेसक्राफ्ट में बिठाकर अंतरिक्ष की ओर भेजने वाला था.
नासा ने बताया है कि अब यह मिशन तीन दिन बाद होगा. 27 मई 2020 की देर रात 2.03 बजे नासा ने फॉल्कन रॉकेट से दो अमेरिकी एस्ट्रोनॉट्स को ISS के लिए रवाना करना था, लेकिन, 16.54 मिनट पहले इस मिशन को रोक दिया गया.जो अमेरिकी एस्ट्रोनॉट्स इस मिशन में स्पेस स्टेशन जाने वाले हैं, उनका नाम है- रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले. दोनों अंतरिक्ष यात्री पहले भी स्पेस स्टेशन पर जा चुके हैं. स्पेस-एक्स अमेरिकी उद्योगपति एलन मस्क की कंपनी है. यह नासा के साथ मिलकर भविष्य के लिए कई अंतरिक्ष मिशन पर काम कर रही है.
आपको बता दें कि 9 साल बाद अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा अपनी कॉमर्शियल क्रू प्रोग्राम फिर से शुरू कर चुकी है. इस मिशन की सफलता के बाद अमेरिका को अपने एस्ट्रोनॉट्स को अंतरिक्ष में भेजने के लिए रूस और यूरोपीय देशों के सहारा नहीं लेना पड़ेगा. यानी करोड़ों-अरबों रुपए खर्च कर रूस और यूरोपीय देशों के रॉकेट से अपने अंतरिक्ष यात्रियों को स्पेस स्टेशन नहीं भेजना पड़ेगा.
पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार, दोनों एस्ट्रोनॉट्स इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पर 110 दिन तक रहेंगे. आपको बता दें कि स्पेस-एक्स ड्रैगन कैप्सूल एक बार में 210 दिनों तक अंतरिक्ष में समय बिता सकता है. उसके बाद उसे रिपेयरिंग के लिए धरती पर वापस आना होगा. संभव है कि ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट से दोनों अंतरिक्षयात्री वापस आ जाए या उनकी जगह किसी और को स्पेस स्टेशन से वापस धरती पर भेजा जाए.