Wednesday , 23 June 2021

आज लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाएगी कांग्रेस

भोपाल (Bhopal) . एक साल पहले 20 मार्च 2020 को कमल नाथ ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद से इस्तीफा दिया था. कमलनाथ के इस्तीफा दिवस को कांग्रेस लोकतंत्र सम्मान दिवस के तौर पर मनाने जा रही है. जिसमें कांग्रेस प्रदेश के सभी 52 जिलों में संविधान बचाओ रैली व तिरंगा यात्रा निकालेगी. मकसद है निकाय चुनाव से पहले जनता के जेहन में एक साल पुरानी सत्तापलट की तस्वीर को ताजा करना. कांग्रेस पदाधिकारियों का कहना है कि जनता को यह याद दिलाया जाएगा कि किस तरह भाजपा ने असंवैधानिक ढंग से, नोटों के दम पर कांग्रेस की सरकार गिराने का षडय़ंत्र रचा. मगर कमलनाथ ने संविधान की मर्यादा कायम रखते हुए मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद से इस्तीफा दे दिया. कहना गलत नहीं होगा कि कांग्रेस परोक्ष रूप से 15 साल बाद बनी प्रदेश सरकार के गिर जाने का विलाप करेगी.

वहीं भाजपा सरकार का भी प्रदेश में एक साल पूरा होने जा रहा है. कांग्रेस कहीं सियासी बढ़त न बना ले, ऐसे में भाजपा ने भी 20 मार्च की कांग्रेस के जख्मों को कुरदने व नमक छिड़कने की तैयारी कर ली है. बीजेपी पदाधिकारियों का कहना है कि कमल नाथ सरकार लूट तंत्र पर आधारित थी, 20 मार्च को कांग्रेस की पापी सरकार गिर गई. इस दिन को सेलीब्रेट किया जाएगा. दरअसल 20 मार्च को संयोगवश अंतर्राष्ट्रीय खुशहाली दिवस भी है. जिसे इस बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाने की तैयारी भारतीय जनता पार्टी ने की है. प्रदेश सरकार के आनंदम् विभाग द्वारा सभी कलेक्टरों को यह निर्देश भी जारी किए गए हैं कि वे खुशहाली दिवस को उत्सापूर्वक मनाएं.

कमलनाथ ने अपनाई थी नैतिकता

कांग्रेस का कहना है कि 20 मार्च को प्रदेशभर में भव्य रूप में लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाया जाएगा. प्रदेश के सभी जिलों में तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी. कांग्रेस इस आयोजन को यह कहते हुए महत्वपूर्ण बता रही है कि भाजपा ने धनबल और खरीदफरोख्त की राजनीति कर सत्ता हथियाई और लोकतंत्र की हत्या (Murder) की. जबकि 20 मार्च को कमल नाथ ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद से इस्तीफा देकर लोकतंत्र में आस्था व्यक्त कर नैतिकता अपनाई थी.

इनका कहना है

20 मार्च को प्रदेश के सभी जिलों में संविधान बचाओ रैलियां व तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी. जनता को याद दिलाया जाएगा कि किस तरह लोकतांत्रित सरकार को काले धन के दम पर खरीद फरोक्त कर तोड़ा गया. खुशहाली दिवस तो क्या, खरीदी गई सरकार को कोई भी दिवस मनाने का संवैधानिक व नैतिक अधिकार नहीं है.
-केके मिश्रा, प्रदेश मीडिया (Media) प्रभारी एवं कांग्रेस महासचिव

Please share this news