Friday , 14 May 2021

यूनियनों को अड़ियल रुख छोड़ देना चाहिए: नरेंद्र सिंह तोमर

नई दिल्ली (New Delhi) . नए कृषि कानूनों को लेकर 19 जनवरी को होने वाली 10वें दौर की बैठक से पहले कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने किसान नेताओं से फिर आग्रह किया कि वे नए कृषि कानूनों पर अपना अड़ियल रुख छोड़ दें और कानूनों की हर धारा पर चर्चा के लिए आएं. तोमर ने मध्य प्रदेश में अपने गृह निर्वाचन क्षेत्र मुरैना रवाना होने से पहले पत्रकारों से कहा, अब जबकि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने इन कानूनों के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी है तो ऐसे में अड़ियल रुख अपनाने का कोई सवाल हीं नहीं उठता है.

उन्होंने कहा कि सरकार चाहती है कि किसान नेता 19 जनवरी को होने वाली अगली बैठक में कानून की हर धारा पर चर्चा के लिए आएं. उन्होंने कहा कि कानूनों को निरस्त करने की मांग को छोड़कर, सरकार गंभीरता से और खुले मन के साथ अन्य विकल्पों पर विचार करने के लिए तैयार है. तोमर हजूर साहिब नांदेड़-अमृतसर (Amritsar) सुपरफास्ट एक्सप्रेस द्वारा अपने निर्वाचन क्षेत्र के लिए रवाना हुए. उन्हें सिख समुदाय के सह-यात्रियों (Passengers) से लंगर साझा करते हुए देखा गया. केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान विशेषकर हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) के किसान दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के क्रियान्वयन पर 11 जनवरी को अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी थी. साथ ही, न्यायालय ने गतिरोध का हल निकालने के लिए चार सदस्यीय एक समिति भी नियुक्त की थी. तोमर ने कहा कि सरकार ने कुछ रियायतों की पेशकश की थी, लेकिन किसान नेताओं ने लचीला रुख नहीं दिखाया और वे लगातार कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं. उन्होंने दोहराया कि सरकार पूरे देश के लिए कानून बनाती है. कई किसानों, विशेषज्ञों और अन्य हितधारकों ने कानूनों का समर्थन किया है. केन्द्र और 41 किसान यूनियनों के बीच अब तक नौ दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन अब तक कोई ठोस नतीजा नहीं निकल सका है.

Please share this news