Monday , 1 March 2021

स्टेशन से किसी ने अपहरण कर लिया था बच्चा

जबलपुर, 21 जनवरी . आज से लगभग 15 दिन पहले नरसिंहपुर से इलाज कराने आई एक महिला के 2 साल के बच्चें को किसी ने अपहरण कर लिया था और चंदनवन नेपियर टाउन के पास छोड़ गया. फुटपाथ पर बच्चें को रोता देख कुछ लोगों ने पुलिस (Police) को सूचना दी, पुलिस (Police) ने मेडीकल परीक्षण के बाद बच्चें को मातृछाया भेज दिया. 15 दिन भटकती माँ को बच्चा मिल गया. बच्चें को पाकर माँ की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. पुलिस (Police) ने औपचारिकता कार्रवाई कर बच्चें को माँ के हवालें कर दिया.

बताया जाता है कि चंदन वन नेपियर टाउन के पास 17 जनवरी को फुटपाथ पर एक रिक्शा वाला दो वर्षीय मासूम बच्चे को छोड़कर चला गया, बच्चा रोता बिलखता रहा, इस दौरान कालेज के छात्र (student) नमन चौकसे व उसके साथियों ने देखा तो पुलिस (Police) को सूचना दी, जिसपर ओमती थाना के एसआई सतीश झारिया आरक्षक वीरेन्द्रसिंह तत्काल मौके पर पहुंच गए और बच्चे को शासकीय अस्पताल में डॉक्टर (doctor) को दिखाने के बाद मातृछाया भेज दिया था, इसके बाद बच्चें के परिजनों की तलाश शुरु कर दी.

वहीं दूसरी ओर बच्चे की मां सुमन विश्वकर्मा बच्चे की तलाश में दर-दर भटकती रही, लेकिन उसका कहीं पता नहीं चल सका, इस बीच सुमन के बेटे को पता चला कि जबलपुर (Jabalpur)में फुटपाथ पर दो वर्ष का बच्चा मिला है, जिसपर पुलिस (Police) को सूचना दी, इसके बाद सुमन विश्वकर्मा जबलपुर (Jabalpur)पहुंची और ओमती थाना पुलिस (Police) की मदद से मातृ छाया पहुंची जहां पर अपने बेटे को पाकर मां की खुशी का ठिकाना नहीं रहा.

एक जनवरी को जबलपुर (Jabalpur)में इलाज कराने आई थी महिला………..

पुलिस (Police) को पूछताछ में सुमन विश्वकर्मा निवासी ग्राम चिचली जिला नरसिंहपुर ने बताया कि उसके पति राकेश विश्वकर्मा गांव-गांव घूमकर सिलाई मशीन सुधारने का काम करते है, जिसके चलते अधिकतर बाहर ही रहते है, 1 जनवरी को इलाज कराने के लिए सुमन अपने 2 वर्षीय बेटे को लेकर जबलपुर (Jabalpur)आई थी, 2 जनवरी को रेलवे (Railway)स्टेशन पहुंची और रात में ट्रेन न मिलने के कारण वहीं रुक गईए इस दौरान किसी ने बच्चे का अपहरण कर लिया था.
बच्चे के लापता होने पर बदहवास सी जबलपुर (Jabalpur)में ही 16 जनवरी तक इधर से उधर घूमती रही, उसने पुलिस (Police) में भी शिकायत नहीं की थी.

कई सवाल भी खड़े हो गए………….

2 वर्षीय बच्चा पवन भले ही अपनी मां सुमन के पास पहुंच गया हो लेकिन एक सवाल भी है कि आखिर रेलवे (Railway)स्टेशन से बच्चे को किसी ने वैâसे अगवा किया, इसके बाद वह बच्चे को फुटपाथ पर छोड़कर क्यों भाग गया है, पुलिस (Police) अधिकारियों का कहना है कि इस मामले की भी जांच की जा रही है.

इन्हे आईजी ने किया सम्मानित………

इस मामले में ओमती थाना के एसआई सतीश झारिया व आरक्षक वीरेन्द्र सिंह की सराहनीय भूमिका रही, जिन्होने मासूम को सुरक्षित मातृ छाया में पहुंचाने और फिर उसकी मां से मिलवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, दोनों को आईजी भगवत सिंह चौहान ने एक हजार रुपए के नकद ईनाम व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया.

Please share this news