Tuesday , 15 June 2021

शिमला एमसी ने 1 हजार प्रॉपर्टी टैक्स डिफॉल्टर्स को भेजा नोटिस, 15 दिन में करना होगा टैक्स जमा

शिमला (Shimla) . हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh)की राजधानी शिमला (Shimla) में नगर ‎निगम ने प्रॉपर्टी टैक्स न चुकाने वाले भवन मालिकों के खिलाफ कड़ा ऐक्शन ‎लिया है. निगम ने एक साल या कई सालों से टैक्स जमा नहीं करने वाले प्रॉपर्टी टैक्स डिफाल्टरों की सूची तैयार की.

हालांकि, कोरोना (Corona virus) के चलते नगर निगम शिमला (Shimla) ने शहर के करीब 200 होटल (Hotel) मालिकों को प्रॉपर्टी टैक्स में छूट दी है. मगर, राजधानी में इसके अलावा भी ऐसे एक हजार भवन मालिक है, जिन्होंने एक साल से प्रोपर्टी टैक्स जमा नहीं किया है. अब निगम ने ऐसे सभी मालिकों को नोटिस जारी कर 15 दिन के भीतर टैक्स जमा करने का अल्टीमेटम दिया है. उसके बाद नगर निगम शिमला (Shimla) नियम 124 के तहत कार्रवाई करेगा.

शिमला (Shimla) के टैक्स इंस्पेक्टर सुरेश शर्मा ने बताया कि नगर निगम को हर साल शहर के 29 हजार भवन मालिकों से 21 करोड़ रुपये की आमदनी होती है, लेकिन साल 2020-21 में अब तक 13 हजार रुपये की आमदनी हो पाई है, जिसमें अभी कई भवन मालिक अपना प्रॉपर्टी टैक्स जमा नहीं कर पाए हैं. इससे निगम को 8 करोड़ रुपए की आमदनी होनी है. ऐसे प्रॉपर्टी टैक्स डिफाल्टर के खिलाफ नगर निगम शिमल ने नोटिस भेज दिए हैं और 15 दिनों के भीतर टैक्स जमा करने को कहा है.

सुरेश ने बताया कि इनमें कुछेक बड़े डिफाल्टर भी हैं जिन्होंने कई समय से निगम को प्रॉपर्टी टैक्स नहीं दिया है जिनके खिलाफ पहले ही निगम कोर्ट में मामला चला हुआ है, जिसमें आईएसबीटी, शिमला (Shimla) पर लगभग पांच करोड़ रुपये की बड़ी कर देनदारी है. इसके अलावा अन्य प्रमुख डिफॉल्टरों ने कहा, सीपीडब्ल्यूडी और कुछ होटल (Hotel) हैं. उन्होंने कहा कि पांच हजार रुपये से अधिक देनदारी वाले सभी भवन मालिकों को नोटिस भेजा गया है.

 

Please share this news