Saturday , 24 October 2020

SBI ने लोन ग्राहकों को दी राहत, मिलेगा दो साल का मोरैटोरियम

नई दिल्ली (New Delhi) . भारतीय स्टेट बैंक (Bank) (एसबीआई) कोरोना की वजह से प्रभावित हुए अपने रिटेल कर्जदारों और होम लोन लेने वालों को राहत दी है. बैंक (Bank) या तो 24 महीने तक का मोराटोरियम मुहैया कराएगा या फिर लोन को रीस्ट्रक्चर कर के उसकी अवधि को दो साल तक के लिए बढ़ाएगा.

भारतीय स्टेट बैंक (Bank) के मैनेजिंग डायरेक्टर सीएस शेट्टी ने इस स्कीम की घोषणा करते हुए कहा कि रीस्ट्रक्चरिंग की अवधि इस बात पर निर्भर करेगी कि कोरोना से प्रभावित शख्स की आमदनी कब से शुरू हो सकती है या फिर कब तक वह दोबारा नौकरी पर लग सकते हैं. भारतीय स्टेट बैंक (Bank) की ये सुविधा उन लोगों को मिलेगी, जिन्होंने 1 मार्च 2020 से पहले लोन लिया हुआ है और कोरोना के चलते लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से उनकी आमदनी प्रभावित हुई है.

हालांकि कर्जदारों को ये साबित करना होगा कि कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) की वजह से उनकी आमदनी प्रभावित हुई है. यानी ऐसा ना समझें कि हर ग्राहक इस सुविधा का फायदा उठा सकता है. भारतीय स्टेट बैंक (Bank) लोन रीस्ट्रक्चरिंग में सबसे आगे है, लेकिन आने वाले समय में एचडीएफसी और आईसीआईसीई जैसे बैंक (Bank) भी लोन रीस्ट्रक्चरिंग की सुविधा दे सकते हैं.