Friday , 25 September 2020

अवमानना मामलों में सजा के खिलाफ अपील का अधिकार बड़ी और अलग पीठ द्वारा सुना जाए – प्रशांत भूषण


नई दिल्ली (New Delhi) . वकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में एक रिट याचिका दायर कर मांग की है कि मूल आपराधिक अवमानना मामलों में सजा के खिलाफ अपील का अधिकार एक बड़ी और अलग पीठ द्वारा सुना जाए. यह याचिका वकील कामिनी जायसवाल के माध्यम से दायर की गई है. इस याचिका में कहा गया है कि अपील का अधिकार संविधान के तहत एक मौलिक अधिकार है और अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत इसकी गारंटी भी है.

याचिका में कहा गया है कि यह गलत सजा के खिलाफ एक महत्वपूर्ण सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करेगा और वास्तव में बचाव के रूप में सत्य के प्रावधान को सक्षम करेगा. ज्ञात रहे कि 3 अगस्त को प्रशांत भूषण के सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने अवमानना मामले पर फैसला सुनाते हुए एक रुपये का जुर्माना लगाया था. फैसले के अनुसार 15 सितंबर तक जुर्माना नहीं दिए जाने की स्थिति में 3 महीने की जेल हो सकती है और तीन साल के लिए उन्हें वकालत से निलंबित भी किया जा सकता है.