Thursday , 13 May 2021

किसी महाशक्ति ने राष्ट्रीय गौरव को ठेस पहुंचाया तो मुंहतोड़ जवाब देंगे: राजनाथ

बेंगलुरु (Bangalore) . पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा एलएसी पर चीन से तनातनी के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार (Thursday) को कहा कि कोई महाशक्ति यदि राष्ट्रीय गौरव को ठेस पहुंचाती है, तो उसे मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा. सीमा पर चीन के साथ आठ महीने से जारी गतिरोध के मद्देनजर रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत युद्ध नहीं चाहता, लेकिन भारतीय सैनिक दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं. रक्षा मंत्री बेंगलुरु (Bangalore) में भारतीय वायु सेना के मुख्यालय प्रशिक्षण कमान में पांचवें सशस्त्र बल पूर्व सैनिक दिवस के अवसर पर बोल रहे थे. प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत भी इस दौरान मौजूद थे.

सिंह ने कहा-हम युद्ध नहीं चाहते और हम सभी की सुरक्षा के पक्ष में हैं, लेकिन मैं स्पष्ट रूप से यह भी कहना चाहता हूं कि यदि कोई महाशक्ति हमारे सम्मान को ठेस पहुंचाना चाहती है तो हमारे जवान उन्हें मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं. रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत कभी किसी देश के साथ संघर्ष नहीं चाहता और उसने अपने पड़ोसियों के साथ शांति और मित्रवत संबंध रखने को प्राथमिकता दी है, क्योंकि यह हमारे खून और संस्कृति में है. चीन के साथ गतिरोध का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय सैनिकों ने अनुकरणीय साहस और धैर्य दिखाया है. यदि इसे बयां किया जा सके तो हर भारतीय को गर्व होगा. रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान की जमीन पर आतंकवादियों को ढेर कर देने का असाधारण साहस दिखाने वाले भारतीय जवानों की भी प्रशंसा की.

सीडीएस जनरल बिपिन रावत ने बेंगलुरु (Bangalore) में शस्त्र बल पूर्व सैनिक दिवस के अवसर पर कहा कि पूर्व सैनिक मौजूदा सैनिकों के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं. उन्होंने पूर्व सैनिकों का अभिवादन किया और कहा कि पूर्व सैनिकों का अनुकरण करते हुए भारतीय सैनिकों ने संघर्ष की बेला पर साहसिक प्रदर्शन किया है. उन्होंने कहा कि सैनिकों के बीच देशवासियों की सेवा के प्रति जुनून सराहनीय है. जनरल रावत ने अपने संदेश में कहा-सशस्त्र बल पूर्व सैनिकों का मार्गदर्शन लेना जारी रखेंगे जिन्होंने अनुकरणीय और उच्च मानक स्थापित किए हैं, सेना और मेरी तरफ से वरिष्ठ सैन्यकर्मियों और उनके समस्त परिवार को शुभकामनाएं.

Please share this news