Wednesday , 30 September 2020

गुजरात सरकार की असामाजिक तत्त्वों के खिलाफ कड़ा कानून बनाने की तैयारी


अहमदाबाद (Ahmedabad) . उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की तर्ज पर अब गुजरात सरकार (Government) भी असामाजिक तत्त्वों के खिलाफ एक अलग से कानून बनाने की तैयारी कर ली है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी कल होनेवाली कैबिनेट की बैठक में गुंडा विरोधी एक्ट प्रस्ताव पेश कर सकते हैं.

द गुजरात गुंडा एन्ड एन्टी सोशल एक्टिविटी एक्ट के तहत यदि कोई शख्स पकड़ा जाता है तो उसकी संपत्ति जब्त कर ली जाएगी. इतना ही नहीं गुंडागिरी करने वाले को 10 साल की सख्त कैद और 50000 रुपए तक का जुर्माना भी हो सकता है. गुंडों के खिलाफ मुकद्दमा चलाने के लिए विशेष अदालत बनाई जाएगी. हांलाकि मामला दर्ज करने से पहले रेन्ज आईजी और पुलिस (Police) आयुक्त मंजूरी लेना अनिवार्य होगा. मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी ने असामाजिक तत्त्वों को कड़ी चेतावनी दी है कि आगामी दिनों में उन्हें गुंडागिरी छोड़नी होगी या गुजरात छोड़ना होगा.