Sunday , 18 April 2021

पटवारियों का राज्यस्तरीय हड़ताल खत्म

बिलासपुर (Bilaspur) . छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) राजस्व पटवारी संघ के बैनर तले चल रहे अनिश्चितकालीन हड़ताल को प्रांताध्यक्ष ने राजस्व मंत्री से मुलाकात के बाद वापस ले लिया है. प्रातांध्यक्ष अश्वनी कुमार वर्मा ने कोरबा में राजस्व मंत्री से मिलाकर हड़ताल स्थगित किए जाने का पत्र भी दिया है. वहीं प्रांताध्यक्ष के इस कदम के बाद पटवारी संघ कई फाड़ में होते नजर आ रहा है. बस्तर के पटवारियों ने एलान कर दिया है कि हम अपना अलग संगठन बनाएंगे. कमोबेश यही स्थिति कोरिया जिले के पटवारी संघ में भी है.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) राजस्व पटवारी संघ के पटवारी प्रांताध्यक्ष की अगुवाई में कोरबा पहुंचकर राजस्व मंत्री को लिखित में हड़ताल स्थगित करने का एलान किया है. राजस्व मंत्री को दिए पत्र में प्रांताध्यक्ष अश्वनी कुमार वर्मा ने लिखा कि हमें राजस्व मंत्री के आश्वासन पर पूरा विश्वास है. हमारी 9 सूत्रीय मांग को जल्द से जल्द पूरा करेंगे. प्रदेश स्तर पर 14 दिसम्बर से चल रहे हड़ताल को वापस लिया जाता है. 28 दिसम्बर को सभी पटवारी काम पर लौट रहे हैं.

बताया जा रहा है कि राजस्व पटवारी संघ के पदाधिकारी अपनी मांग को लेकर राजस्व मंत्री से मिलने कोरबा गए थे. मुलाकात के दौरान ेराजस्व मंत्री ने दो टूक कहा कि मांग को पूरा किए जाने को लेकर हमने दो दिन पहले ही आश्वासन दिया है. कई मांगों को वित्त विभाग को भेजा गया है. कुछ मामले हमने जल्द से जल्द पूरा करने का वादा किया है. बावजूद इसके हड़ताल पर जाना ठीक नही है. लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. यदि दो दिनों के भीतर हड़ताल वापस नहीं लिया जाता है. तो सभी के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. मंत्री के तेवर देख राजस्व पटवारी संघ के नेता और पदाधिकारी सकते में आ गए. सभी ने तत्काल राजस्व मंत्री के नाम एक पत्र लिखकर हड़ताल स्थगित किए जाने का एलान कर दिया.

बस्तर कोरिया समेत अन्य जिलो में फूटा गुस्सा

राजस्व पटवारी संघ के मात्र आश्वासन से हड़ताल स्थगित किए जाने को लेकर प्रदेश के अन्य जिलों में पटवारियों के बीच गहरा आक्रोश नजर आने लगा है. कोरिया और बस्तर के पटवारियों ने राजस्व पटवारी संघ के फैसले से अपने आप को अलग कर लिया है. इसके अलावा प्रदेश के अन्य जिलों के पटवारियों ने भी नया संगठन बनाने का एलान किया है.

संगठन बनाने का ऐलान

9 सूत्रीय मांग को आश्वुासन के भरोसे छोड़े जाने से प्रदेश के पटवारियों में गहरा आक्रोश है. बताते चलें कि पहले भी कुछ इसी तरह के मामले में राज्य पटवारी संघ के कुछ पटवारियों ने अलग होकर राजस्व पटवारी सघ का निर्माण किया. वर्तमान में पटवारी संघ के अध्यक्ष कमलेश राजपूत ने राजस्व पटवारी संघ के फैसले का गहरा विरोध किया है. वहीं अब बस्तर के साथ कोरिया जिले के पटवारियों ने राजस्व पटवारी संघ से हटने का एलान कर दिया है. दोनों जिलों के पटवारियों ने राजस्व पटवारी संघ के प्रांताध्यक्ष को दो टूक कह दिया है कि हमें राजस्व पटवारी संघ में नहीं रहना है. अब हम अलग संगठन बनाकर पटवारी हित में संघर्ष करेंगे.

सरकार उठाएंगी कलह का फायदा

हड़ताल वापस लिए जाने के बाद राज्य के पटवारियों में जबरदस्त आक्रोश है. संगठन में वाद विवाद शुरू हो गया है. साथ ही कई जिलों के पटवारियों ने राजस्व पटवारी संघ से नाता तोडऩा शुरू कर दिया है. साथ ही नया संगठन बनाने का एलान कर दिया है. बताया जा रहा है कि सरकार यही चाहती भी थी. जिससे पटवारी काम पर लौटे.

 

Please share this news