Saturday , 15 May 2021

एक सांसद और सात विधायक गाड़ियां हूटर बजाती फिर रही सात सौ


हूटर लगी गांड़ियां उड़ा रही शासन के आदेशों की धज्जियां, पुलिस (Police) मूकदर्शक

अलीगढ़ (Aligarh) . जब से भाजपा की सरकार सत्ता में आई है तभी से सत्ताधारी पार्टी का झण्डा गाड़ियों पर लगाकर सत्ता की हनक में जिलाध्यक्ष और विधायक लिखी गाड़ियां महानगर में अवैध हूटर बजाती लिखी गांड़िया फर्राटा मारकर दौड़ रही है. मजे की बात तो यह है कि जनपद में इकलौते सांसद (Member of parliament) और सात विधायक जनता ने विधानसभा में चुनकर भेजे हैं, लेकिन महानगर में सांसद (Member of parliament) व विधायकों की आठ गाड़ियों के अलावा कम से कम सात सौं गाड़ाया विधायक लिखाकर घूम रही हैं, जबकि विधानसभा से जनप्रतिनिधि को एक लोगों अपनी गाड़ी पर लगाने के लिये दिया जाता है. जिसकी फोटो प्रतिलिपि कर गाड़ियों पर चिपका लिया गया है. सवाल उठता है कि एक सांसद (Member of parliament) और सात विधायक कितनी गाड़ियों में घूमते हैं और कितनी गाड़िया खरीद लिये हैं.

जनपद में लगभग आधा दर्जन लग्जरी वाहनों में हूटर लगे हैं और सत्ताधारी दल का झंडा लगाकर हूटर बेरोकटोक बजाए जा रहे हैं. ऐसे में जनता भी भौचक रह जाती है कि आखिर कौन जनप्रतिनिधि है, जो हूटर बजाते हुए जा रहा है? सर्किल पुलिस (Police) इन हूटर एवं सायरन बजाने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई कर पाने में बेबस है, क्योंकि जिन गाड़ियों से हूटर बजाए जाते हैं, उन पर सत्ताधारी दल एवं गैर सत्ताधारी दलों का ही झंडा लगा होता है. मजेदार तो यह है कि एक जनप्रतिनिधि की पायलटिंग बगैर किसी प्रोटोकाल के कोतवाल एवं थानाध्यक्ष करने में व्यस्त रहते हैं. काफिला निकलने पर तो थानाध्यक्षों की मौजूदगी में हूटर बजता ही है. वैसे भी रास्ते भर हूटर बजता रहता है. नगर में तेज रतार से चलने वाली टू व्हीलर एवं फोर व्हीलर वाहनों पर रोक नहीं लग पा रही है. चार पहिया वाहनों में अवैध रूप से हूटर लगाकर चालक निकल रहे है. इनके द्वारा बार-बार इधर-ऊधर करने से लोगों को परेशानी होती है, लेकिन इन पर कार्रवाई नहीं होती है. स्थानीय लोगों ने वरिश्ठ पुलिस (Police) अधीक्षक से इन अवैध हुटरो पर व तेज स्पीड की गाड़ियों पर रोक लगाने की मांग की है.

विधायक लिखी गाड़ी हूटर बजाती हुई अधिकारियों के कानों से निकल जाती है लेकिन जनपद का कोई भी अधिकारी हूटर लगी गाड़ी को रुकवाने या हूटर को उतरवाने की जहमत नहीं उठाता. इतना ही नहीं यह हूटर लगी गाड़ियां आये दिन उच्चाधिकारियों के दतरों तक भी जाती देखी गयी हैं. लेकिन इस गैर कानूनी तरीके से लगाये गये हूटर पर शायद उच्चाधिकारियों की नजर जाने के बाद भी वह नजरंदाज किये हुए हैं.

अधिकारियों के सिर पर रेंगने के बाद भी इस गाड़ी का अभी तक न तो आरटीओ विभाग ने संज्ञान लिया और न ही पुलिस (Police) विभाग ने. सत्ता की हनक को भांपकर कोई भी जनपद का अधिकारी इनसे पंगा लेने की जहमत नहीं उठा रहा, जिससे कानून शासन के आदेशों की धज्जियां उड़ाती गाड़ियां खुलेआम हूटर बजाती दौड़ रही है. पुलिस (Police) सबकुछ जानकर भी मूकदर्शक बनी हुई है. सत्ता की हनक हो और रौब गालिब करने का मौका न मिले, ऐसा हो ही नहीं सकता. अलीगढ़ (Aligarh) में सैकड़ों गाड़ियां आपको ऐसी मिल जाएंगी, जिनमे अवैध रूप से हूटर लगे हैं. जबकि सीएम योगी बिना वजह हूटर बत्ती लगाने वालों को नसीहत तक दे चुके हैं.

Please share this news