Tuesday , 15 June 2021

अब जेल में बंद कैदियों को भी मिलेगा रोजगार, पंजाब सरकार कर रही तैयारी

जालंधर . पंजाब (Punjab) सरकार ने जेलों में बंद कैदियों के ‎लिए रोजगार देने की तैयारी कर ली है. अब जेलों में बेकरी उद्योग शुरू किया जा रहा है, ‎‎जिसमें बने बेकरी के विशेष ब्रांड को खुली मार्केट में एजेंसियां देकर बेचा जाएगा. कैदियों द्वारा राज्य भर में 10 पैट्रोल पम्प भी लगाए जा रहे हैं, इसके लिए इंडियन ऑयल कार्पोरेशन के साथ पंजाब (Punjab) सरकार का समझौता हो चुका है. मई माह से ये पैट्रोल पम्प गुरदासपुर, अमृतसर (Amritsar), संगरूर, मुक्तसर साहिब व अन्य स्थानों पर शुरू हो जाएंगे.

पंजाब (Punjab) के जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने बताया कि जेलों से रिहा होने वाले कैदी स्वरोजगार से अपनी आजीविका चला सकें और जुर्मों से दूर रहें, इसके लिए ही ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं. रिहा होने के बाद स्वरोजगार चलाने वाले कैदियों को सरकार एक लाख रुपए का ऋण भी उपलब्ध करवाएगी.

रंधावा ने बताया ‎कि कैदियों की मानसिक स्थिति सुधारने के लिए प्रत्येक जेल में दो-दो कौंसलरों की नियुक्ति की जा रही है. जेलों को वास्तव में सुधार घर के रूप में परिवर्तित करने के प्रयासों के तहत ही पिछली सरकार में बंद पड़ी वर्कशापों को फिर से शुरू किया गया है. सरकार का यह मकसद था कि एक तो रिहा होने के बाद कैदियों को रोजगार की चिंता न रहे और दूसरा जेलों की आय में भी वृद्धि हो सके. अभी तक ऐसी प्रणाली चलती आ रही थी कि जेलों को अनुदान मिलता था और कुछ आय जेलों से भी हो जाती थी.

बता दें ‎कि इस जटिल प्रक्रिया को दूर करने के लिए ही सरकार ने तेलंगाना राज्य की तर्ज पर पंजाब (Punjab) जेल विकास बोर्ड का गठन किया था. मुख्यमंत्री (Chief Minister) कैप्टन अमरेंद्र सिंह इस बोर्ड के चेयरमैन हैं और इसकी अनेक बैठकें हो चुकी हैं. शीघ्र ही एक अन्य बैठक होने जा रही है, जिसमें जेल विभाग द्वारा अन्य उद्योगों के बारे में भी निर्णय लेने की सम्भावना है. तेलंगाना को जेलों से लगभग 600 करोड़ रुपए की आय होती है. लुधियाना और गुरदासपुर की जेल में बेकरी उद्योग चल रहे हैं. जेलों में उद्योगों और कार्यों से होने वाली आय को कैदियों व जेलों के विकास पर ही खर्च किया जाएगा. साथ ही ज्योतिष विद्या में जेल के खाने को विशेष महत्ता दी गई है. ज्योतिष शास्त्र में ऐसा माना जाता है कि जेल का खाना खा लेने से किसी जुर्म में जेल जाने के संकट से राहत मिल जाती है. राज्य में आज भी जेलों की रोटी के लिए लोगों को अनेक प्रयास करने पड़ते हैं.

Please share this news