Monday , 10 May 2021

अब विदेशों में रहकर भी यहीं से बनवा सकेंगे इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस

भोपाल (Bhopal) . अब विदेश में रहकर भी राजधानी सहित प्रदेश में रहने वाले लोग इंटरनेशनल ड्राइविंग परमिट (आइडीपी) के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे. विदेशों में बैठकर ही इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस ऑनलाइन बनवा सकेंगे. इसके लिए उन्हें दो हजार स्र्पये अतिरिक्?त देने होंगे. साथ ही दूतावास के सहयोग से जानकारी देकर सारथी पोर्टल के जरिए ऑनलाइन लाइसेंस बनवा सकेंगे. बता दें कि अभी भोपाल (Bhopal) में रोजाना तीन से चार ऐसे लोग आते हैं, जो अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, सिंगापुर, कनाडा, फ्रांस सहित अन्य देशों में रह रहे हैं. वहीं प्रदेश में रोजाना करीब 20 से 25 लोग ऐसे होते हैं जो इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आवेदन करते हैं. इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए मूल रूप से रहने वाले प्रदेश के लोगों को संबंधित क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) और जिला परिवहन कार्यालय (डीटीओ) आना पड़ता है.

परिवहन आयुक्त मुकेश जैन ने बताया कि केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राज्यमार्ग मंत्रालय ने हाल ही में आइडीपी संबंधी अधिसूचना जारी की है. इस सुविधा से विदेशों से हजारों स्र्पये लेकर विमान का किराया देकर आने की जरूरत नहीं पड़ेगी. ऑनलाइन आवेदन करने पर पोर्टल के जरिए बेवकैम के माध्यम से फोटो खींचकर व दस्तावेजों की जांच कर ड्राइविंग लाइसेंस बन सकेंगे. लाइसेंस बनने के बाद विदेशों में संबंधित पते पर लाइसेंस भिजवाए जाएंगे.

भोपाल (Bhopal) में एक दिन में 754 ड्राइविंग लाइसेंस बनाए गए

मकर संक्रांति पर गुरुर को स्थानीय अवकाश होने के कारण लोगों के ड्राइविंग लाइसेंस नहीं बनाए गए थे. ऐसे में राजधानी भोपाल (Bhopal) में शुक्रवार (Friday) सुबह 10 बजे क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) खुलने पर लोगों की भीड़ लगने लगी. आरटीओ की परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस शाखा के बाहर लोगों की भीड़ को देखते हुए आरटीओ संबंधी ऑनलाइन काम देख रही स्मार्टचिप कंपनी ने लोगों को परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनाने शुरू किए. साथ ही लाइसेंस का नवीनीकरण करने का काम भी शुरू कर दिया. भीड़ अधिक होने से रात आठ बजे तक 754 ड्राइविंग लाइसेंस बनाए गए. स्मार्टचिप कंपनी भोपाल (Bhopal) आरटीओ प्रभारी राजेश शर्मा ने बताया कि लोगों को परेशानी न हो, इसलिए जितने लोग आए, उन सभी के नए परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनाए गए. साथ ही लाइसेंस नवीनीकरण भी किए गए. कुल 754 ड्राइविंग लाइसेंस जारी किए गए. वैसे रोजाना 450 से 500 परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाते हैं.999

Please share this news