Friday , 7 May 2021

रेलवे के बढ़ते किराये की खबरों पर मंत्रालय की सफाई

नई दिल्ली (New Delhi) . ऐसी कुछ रिपोर्ट्स का दावा था कि रेलवे (Railway)ने अपना किराया बढ़ा दिया है. इन रिपोर्टों को खारिज करते हुए रेल मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि टिकट की कीमतें समान हैं. खबरों को भ्रामक करार देते हुए मंत्रालय ने कहा कि टिकट किराए में कोई बदलाव नहीं किया गया है. लेकिन फिर यात्रियों (Passengers) को किराया की कीमतों में अंतर क्यों दिखाई दे रहा है? मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि त्योहारों की विशेष ट्रेनें जो यात्रियों (Passengers) की भीड़ को दूर करने के लिए अक्टूबर में शुरू की गई थीं, अभी भी चल रही हैं क्योंकि मंत्रालय अपनी पूर्व-कोविड सेवाओं की स्थिति में वापस नहीं आया है. अप्रैल-मई में श्रमिक विशेष और मुट्ठी भर विशेष यात्री ट्रेनों के साथ शुरू करते हुए, सेवाओं ने देश भर में कनेक्टिविटी की पेशकश की है, लेकिन अभी तक कोरोना समय से पहले की स्थिति हासिल नहीं हुई है.

त्योहारों की विशेष ट्रेनों का किराया हमेशा सामान्य किराए से थोड़ा अधिक होता है, रेलवे (Railway)ने कहा कि साल 2015 से ऐसा ही होता है. चूंकि वे ट्रेनें अभी भी उच्च मांग के कारण चल रही हैं, किराया अधिक लग सकता है लेकिन टिकट की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. रेलवे (Railway)ने अपने बयान में कहा है, “इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए कि यात्री परिचालन में हमेशा रेलवे (Railway)द्वारा सब्सिडी दी गई है. रेलवे (Railway)को यात्री की यात्रा के लिए नुकसान उठाना पड़ता है. रेलवे (Railway)ज्यादातर चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में कोविड समय में ट्रेनें चला रहा है और अभी भी लोक कल्याण में काम कर रहा है” “इतना ही नहीं, रेलवे (Railway)ने ट्रेनों में सबसे कम किराए पर यात्रा करने वालों की यात्रा के बारे में विशेष ध्यान रखा है, ताकि कोविड के समय में भी वे कम से कम बोझ वहन करें. सभी ट्रेनों में जो चलाया जा रहा है, अन्य वर्गों के अलावा, ट्रेनें बड़ी हैं 2एस श्रेणी के कोचों की संख्या जिनके पास आरक्षित श्रेणी में सबसे कम किराया है” नीति के अनुसार, विशेष किराए मामले में भी 2S यात्रियों (Passengers) को अतिरिक्त ₹ 15 से अधिक शुल्क नहीं देना होता है.

Please share this news