Tuesday , 15 June 2021

देश में सबको वैक्सीन और सबको शिक्षा का लक्ष्य हासिल करके रहेंगे : मेहता


– रोटरी इंटरनेशनल के 2021-22 के प्रेसिडेंट शेखर मेहता पहुंचे उदयपुर (Udaipur)-
– इस साल की रोटरी इंटरनेशनल थीम होगी-‘सर्व टू चेंज लाइव्ज’

उदयपुर (Udaipur). हमें दुनिया का सबसे बड़ा पोलियो मुक्ति अभियान चलाने का अनुभव है. वैक्सीनेशन में अगर दुनिया की सिविल सोयायटी में कोई समझता है तो वो सिर्फ रोटरी क्लब ही है. कोरोना वैक्सीनेशन के मौजूदा दौर की चुनौतियों को देखते हुए दुनियाभर में अलग-अलग देशों की सरकारों के साथ मिलकर हर स्तर पर सहयोग कर रहे हैं. यह विचार रोटरी इंटरनेशनल के 2021-22 के प्रेसिडेंट शेखर मेहता ने शुक्रवार (Friday) को लेकसिटी मॉल स्थित रेडिसन ग्रीन में पत्रकारों से बातचीत के दौरान व्यक्त किए.

उन्होंने कहा कि भारत में वैक्सीनेशन सेंटर्स पर बुजुर्गों को सपोर्ट कर रहे हैं और जब टीकाकरण का मौजूदा दौर समाप्त हो जाएगा तब बचे हुए लोगों में वैक्सीन हेजिटेशन खत्म करने का काम हाथ में लेंगे. रोटेरियन्स घर-घर जाकर समझाएंगे क्योंकि जब तक सब वैक्सीन नहीं लेंगे, तब तक सब सुरक्षित नहीं रह सकेंगे. कोरोना के शुरुआती दौर में भारत में रोटरी क्लब ने 105 करोड़ पीएम केयर फंड में दिए. करीब 150 करोड़ से अधिक की राशि छह महीने पहले ही रोटेरियन ने देशभर में प्रदान की. हमने 50 से अधिक कोविड केयर हॉस्पिटल स्थापित कर दिए. करोड़ों मास्क, लाखों लीटर सेनेटाइजर, लाखों पीपीई किट, वेंटिलेटर,ऑक्सीमीटर्स दिए. अब तक विश्व में रोटरी की ओर से 2100 करोड़ खर्च किए गए हैं.

प्रेसवार्ता में डिस्ट्रिक्ट गवर्नर राजेश अग्रवाल ने प्रांत 3054 के सेवा कार्यों के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि महामारी (Epidemic) के दौर में शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं पर विशेष जोर रहेगा. इस अवसर पर पूर्व प्रांतपाल निर्मल सिंघवी, प्रवक्ता सुषमा कुमावत, रोटरी क्लब ऑफ उदयपुर (Udaipur) मीरा की ओर से आयोजित महिलाओं के लिए दो दिवसीय संगिनी कार्यक्रम की चेयरमैन मधु सरीन, आयोजन सचिव प्रीति सोगाणी, रोटरी क्लब मीरा की अध्यक्षा विजयलक्ष्मी गलुण्डिया, सचिव संगीता मूंदरा आदि मौजूद थे.

प्रेसवार्ता में शेखर मेहता ने कहा कि पूरे विश्व के 200 से अधिक देशों में रोटरी इंटरनेशनल के माध्यम से 116 सालों से सेवा कार्य चल रहे हैं. भारत में पिछले साल ही रोटरी ने अपने 100 साल पूरे किए हैं. पूरे विश्व में 530 एडमिनिस्ट्रेटिव डिस्ट्रिक्ट के माध्यम से हम सेवा कार्य कर रहे हैं. इस साल की थीम ‘सर्व टू चेंज लाइव्ज’ हैं. हमारा सबसे बड़ा कार्यक्रम पोलियो उन्मूलन हैं जो 35 साल से चल रहा है. तब साढ़े तीन लाख बच्चे पोलियोग्रस्त थे. आज सिर्फ दुनिया के दो देशों पाकिस्तान व अफगानिस्तान में ही पोलियो के 150 मामले बचे हैं. हमें इसे दुनिया से खत्म करना है.

मेहता ने बताया कि हमें प्रधानमंत्रीजी ने कोरोना महामारी (Epidemic) के काल में कहा कि हम चाहते हैं कि घर पर बैठे बच्चों को ऑडियो विजुअल एड चाहिए. इस पर रोटरी ने एजुकेशन मिनिस्ट्री से एमओयू किया व तीन महीने के भीतर कक्षा पहली से बारहवी तक के बच्चों का पूरा पाठ्यक्रम रोटरी इंडिया लिट्रेसी मिशन के तहत दे दिया दिया जो अभी दीक्षा पोर्टल पर चलता है.  इसके ढाई हजार एपिसोड हैं जो बच्चे घर पर बैठे पढ़ रहे हैं. शिक्षा के साथ ही सरकार की ओर से लाए गए 12 चैनल-पी.एम.ई-विद्या पर भी उपलब्ध हैं. अब पोस्ट पेंडेमिक दौर में हम चाहते हैं कि हमारा ऑडियो वीडियो कंटेंट बच्चे स्कूलों में ही टीवी पर देख पाएं.

मेहता ने बताया कि हम देशभर में 100 आई हॉस्पिटल चलाते हैं, अगले पांच साल में 50 नए चलाएंगे. देशभर में 40 नए डायलिसिस केंद्र स्थापित करेंगे. गांवों में एक-एक इकाइयों ने सात से दस हजार टॉयलेट बनवाए हैं.  रोटरी का ध्येय है कि अगर किसी को लगे कि सौ किलोमीटर रेडियस में कोई आंख का अस्पताल नहीं है तो हमें बताइये, हम बनाएंगे. अगर आपको लगे कि 200 किलोमीटर में कोई ब्लड बैंक (Bank) नहीं है तो हम खोलेंगे. इसके साथ ही रोटरी क्लब शीघ्र ही ब्लड लाइन नाम की ऑन कॉल सेवा लाने वाला है. इसमें एक कॉल करने पर डोनर खुद ब्लड देने को हाजिर हो जाएगा. मेहता ने बताया कि अगले वर्ष का लक्ष्य है एम्पावरमेंट्स ऑफ गल्र्स. इसमें हम दुनियाभर की बच्चिों को उनकी शिक्षा,चिकित्सा, स्वास्थ्य, मानसिक स्वास्थ्य आदि को लेकर जागरूक करेंगे व उनके लिए कार्य करेंगे. इसमें स्किल डेवलपमेंट, मैन्स्ट््रूअल हाइजीन आदि शामिल है.

हम करवाएंगे बच्चों की की हार्ट सर्जरी

अगर कोई भी बच्चा जिसे हार्ट सर्जरी की जरूरत है, उसको रोटरी के पास लाइये. आप बच्चों को भेजते नहीं थकेंगे, हम सेवा करते नहीं थकेंगे. करीब 20 हजार बच्चों की सर्जरी करवा दी है व आने वाले पांच सालों में 35 हजार बच्चों की हार्ट सर्जरी करवानी हैं. बच्चें जहां चाहेंगे, वहां पर हम सर्जरी करवाएंगे.

2027 तक सबको शिक्षित करने का लक्ष्य :

भारत में हमने संकल्प किया है कि 2027 तक सबको शिक्षित कर देंगे. इसमें भी एडल्ट लिट्रेसी पर काम करेंंगे. भारत सरकार के आंकड़ोंं के अनुसार देश के 15 प्रतिशत एडल्ट अशिक्षित हैं. इस वर्ग को शिक्षित करने की तरफ अब तक किसी का ध्यान नहीं है. रोटेरियंस चाहते हैं कि हम इंडिया का नाम पूर्ण शिक्षित देशों की सूची में देखें व इसके लिए हमें 18 करोड़ एडल्ट्स का शिक्षित करना है. इसमें से आधों को रोटरी पढ़ाएगा. इसका एक दिलचस्प तरीका है कि हम कक्षा 6 से ऊपर के बच्चों से कहेंगे कि वे एक अशिक्षित को पढ़ाएं. अभी देश में 25 करोड़ बच्चे शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं. यदि एक बच्चा भी एक अशिक्षित का जिम्मा उठा लेगा तो यह काम एक ही साल में संभव है. ये काम हम करके ही छोड़ेंगे. हमें कई सरकारों से प्रपोजल मिले हैं व शीघ्र ही एमओयू करने वाले हैं.

जल संसाधन की हर योजना का दसवां हिस्सा हम पूरा करेंगे :

हमने जोधपुर (Jodhpur) में मंत्री गजेंद्र शेखावतजी से मुलाकात कर यह प्रपोजल दिया है कि जो प्रपोजल जल संसाधनों के लिए भारत सरकार लाएगी उसका दसवां हिस्सा हम पूरा करेंगे. हम घर-घर नल जल पहुंचाएंगे, चेक डेम बनवाएंगे व बावड़ी रिचार्ज सहित अन्य कार्यों में हिस्सेदारी करेंगे.

‘संगीनी कॉन्फ्रेंस ऑफ विमेन’ शनिवार (Saturday) से :

रोटरी क्लब ऑफ उदयपुर (Udaipur) मीरा की ओर से ‘संगीनी कॉन्फ्रेंस ऑफ विमेन’ का आयोजन लाभगढ़ रिसोर्ट में 20 और 21 मार्च को आयोजित किया जाएगा. प्रवक्ता सुुषमा कुमावत ने बताया कि उद्घाटन सत्र 20 मार्च को दोपहर 3 बजे शुरू होगा. रोटरी क्लब ऑफ उदयपुर (Udaipur) मीरा की ओर से महिलाओं के लिए आयोजित इस कार्यक्रम में पहले दिन इंटरनेशनल लाइफ कोच डॉ. अनुराधा टोटे मुख्य वक्ता होंगी. वे ‘अनलेशन योर पोटेंशियल-ओवकमिंग चैलेंजेज’ सत्र में सेवा क्षेत्र में महिलाओं के योगदान, चुनौतियों तथा अपनी क्षमताओं को पहचान कर लगातार आगे बढऩे की प्रेरणा के बारे में बताएंगी. रोटेरियन व मोटिवेशन स्पीकर प्रीतम गोस्वामी स्पीच देंगे. 21 मार्च को असमानी सुरवे ‘वर्क लाइफ बैलेंस’ में पेशेवर जीवन में महिलाओं के जीवन की चुनौतियां तथा उनके समाधान के बारे में बताएंगे. समापन सत्र 21 मार्च को सुबह 9 बजे आयोजित किया जाएगा. संगीनी कार्यक्रम की चेयरमैन मधु सरीन, आयोजन सचिव प्रीति सोगाणी हैं.

Please share this news