Saturday , 19 June 2021

‘इक्कीसवी सदी के अंतराष्ट्रीय श्रेष्ठ व्यंग्यकार’ का प्रकाशन : मनमोहन हर्ष के ‘पादुका उत्सव’ को भी मिला स्थान, व्यंग्य पात्र ‘हटकरजी’ और नए शब्द चपलास्तु पर विशेष चर्चा

जयपुर. जयपुर (jaipur)निवासी लेखक और व्यंग्यकार मनमोहन हर्ष की व्यंग्य रचना ‘पादुका उत्सव’ को इंडिया नेटबुक्स, नोएडा (Noida) द्वारा प्रकाशित ‘इक्कीसवी सदी के अंतराष्ट्रीय श्रेष्ठ व्यंग्यकार’ संकलन में देश और प्रदेश के नामचीन व्यंग्यकारों की रचनाओं के बीच स्थान मिला है. इस व्यंग्य संकलन का सम्पादन देश के प्रसिद्ध साहित्य सृजकों लालित्य ललित और राजेश कुमार की जोड़ी द्वारा किया गया है. इस व्यंग्य संग्रह में विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरीशस द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय व्यंग्य प्रतियोगिता के विजेताओं के साथ ही देश के 19 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के व्यंग्यकारों की रचनाओं को संजोया गया है.

रोजमर्रा की जिंदगी में चप्पल-जूते गुम या चोरी हो जाने के अनुभव से हम कई बार गुजरे होंगे, एक ऐसी ही सामान्य घटना के अनुभव के इर्द-गिर्द ‘पादुका-उत्सव’ शीर्षक से हर्ष द्वारा व्यंग्य बुना गया है, जो पाठकों को भीतर तक गुदगुदा देता है. ‘इक्कीसवी सदी के अंतराष्ट्रीय श्रेष्ठ व्यंग्यकार’ पुस्तक में सम्पादक द्वय लालित्य ललित और राजेश कुमार ने अपनी भूमिका में मनमोहन हर्ष के व्यंग्य पात्र ‘हटकरजी’ का प्रमुखता से उल्लेख करते हुए लिखा है कि इसके नामकरण में रचनात्मकता का परिचय दिया गया है. यह ऐसा पात्र है, जिसके नाम में ही इसकी विशेषताएं समाहित है. इसके साथ ही हर्ष द्वारा अपने इस व्यंग्य में गढ़े गए एक नए शब्द ‘चपलास्तु’ का सम्पादकों ने ‘अभिनव शब्द प्रयोग’ के तहत विशेष रूप से जिक्र किया है. संकलन में लेखकों द्वारा प्रयुक्त किए ऐसे ही नए शब्दों पर टिप्पणी में कहा गया है कि कथ्य की प्रभावी प्रस्तुति के लिए यह लेखकों की भाषिक दक्षता और रचनात्मकता को दर्शाता है.

बीकानेर मूल के हर्ष राजस्थान (Rajasthan)सूचना एवं जनसम्पर्क सेवा के अधिकारी है और पिछले 13 वर्षों से जयपुर (jaipur)में कार्यरत है. देश के लगभग सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में गत 31 वर्षों में उनके खेल और समसामयिक विषयों पर आलेख प्रकाशित होते रहे है. उन्होंने गत कुछ सालों से अपने व्यंग्य पात्र ‘हटकरजी’ के साथ कई रचनाएं लिखी है, जिन्हें भी देश के कई प्रकाशनों में समय-समय पर स्थान मिला है.

‘इक्कीसवी सदी के अंतराष्ट्रीय श्रेष्ठ व्यंग्यकार’ संकलन में मॉरीशस, कनाडा, यूएसए, ऑस्ट्रेलिया, यूके, न्यूजीलैंड, दुबई और नेपाल से सम्बद्ध लेखकों के अलावा देश के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) से 66, उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) से 37, राजस्थान (Rajasthan)और नई दिल्ली (New Delhi) से 31-31, महाराष्ट्र (Maharashtra) से 17, छत्तीसगढ़ से 12, हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh)से 9, बिहार (Bihar) से 6, हरियाणा (Haryana) से 4, चंडीगढ़, झारखंड एवं उत्तराखंड से 3-3, कर्नाटक (Karnataka), पंजाब, पश्चिम बंगाल (West Bengal) एवं तेलंगाना से 2-2 तथा तमिलनाड़ू, गोवा और जम्मू (Jammu) एवं कश्मीर से 1-1 लेखक की रचनाओं का चयन कर प्रकाशन किया गया है.

Please share this news