Saturday , 26 September 2020

प्राथमिकी दर्ज कराने पर वकील विकास सिंह बोले- शुरू से ही रिया को बचा रही है मुंबई पुलिस


मुंबई (Mumbai) . बॉलीवुड (Bollywood) अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती ने सोमवार (Monday) को मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कराई है. इसमें सुशांत की बहन और डॉक्टर (doctor) पर गलत तरीके से दवाई देने का आरोप है. अब सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने मंगलवार (Tuesday) को रिया चक्रवर्ती पर बड़े आरोप लगाए. विकास सिंह ने कहा कि रिया ने जो एफआईआर (First Information Report) दर्ज कराई है वो पूरी तरह से गलत है.

अगर उन्हें कुछ कहना था तो CBIके सामने किसी बयान में कहना था, जिसपर CBIएक्शन ले सकती थी. वकील ने आरोप लगाया कि ऐसा लग रहा है कि बांद्रा पुलिस (Police) स्टेशन रिया चक्रवर्ती का दूसरा घर है, छोटी-छोटी बात में वो बार-बार वहां पर शरण लेती हैं. मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) ने जो भी एफआईआर (First Information Report) दर्ज की है वो सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के आदेश का उल्लंघन है.

विकास सिंह ने आरोप लगाया कि डॉक्टरों (Doctors) पर भी केस दर्ज नहीं किया जा सकता है, क्योंकि बांद्रा पुलिस (Police) ने कोई मेडिकल टीम का गठन नहीं किया है. मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) ने एफआईआर (First Information Report) दर्ज करने में खानापूर्ति की है. इस पर हम जल्द ही एक्शन लेंगे, सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) में भी अपील दाखिल की जा सकती है. सुशांत के पिता के वकील ने कहा कि रिया चक्रवर्ती इस कहानी को नया मोड़ देने में लगी हैं, लेकिन ऐसा नहीं होगा. जांच में सामने आ रहा है कि कौन सुशांत को ड्रग्स दे रहा था. रिया चक्रवर्ती इस वक्त मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) को ऐसे इस्तेमाल कर रही हैं, जैसे घर की पुलिस (Police) हो.

विकास सिंह ने 15 करोड़ रुपये की बात पर कहा कि हमने जो एफआईआर (First Information Report) में बात कही है, हम उसपर ही कायम हैं. ऐसे में जांच में जो भी बात सामने आएगी, उससे सब साफ होगा. वकील ने आरोप लगाया कि मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) शुरुआत से ही रिया चक्रवर्ती का समर्थन कर रही है और जांच को अलग दिशा में ले जा रही है. गौरतलब है कि रिया चक्रवर्ती ने सोमवार (Monday) को मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) स्टेशन में सुशांत की बहन प्रियंका, मीतू सिंह और राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर (doctor) तरुण कुमार और अन्य के खिलाफ केस दर्ज कराया है. जिसमें गलत तरीके से ड्रग्स देने का आरोप लगाया है.