Friday , 25 September 2020

उदयपुर में कोरोना रोगियों के होम आइसोलेशन होने पर क्‍या नियम-कायदे पालन करने होंगे, जानिए


उदयपुर (Udaipur). कोरोना महामारी (Epidemic) से प्रभावी रोकथाम एव नियंत्रण के लिए कोरोना पॉजिटिव आने वाले असिम्प्टोमैटिक एव माइल्ड सिम्प्टोमैटिक मरीजों को घर पर ही होम आइसोलेशन की व्यवस्थाओं को लेकर जिला कलक्टर (District Collector) चेतन देवड़ा के निर्देशानुसार मंगलवार (Tuesday) को एक बैठक का आयोजन किया गया.

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश खराड़ी की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में कोरोना महामारी (Epidemic) से प्रभावी रोकथाम एव नियंत्रण के लिए कोरोना पॉजिटिव आने वाले असिम्प्टोमैटिक एव माइल्ड सिम्प्टोमैटिक मरीजों को घर पर ही होम आइसोलेशन के लिए शहर के 14 सेक्टरों को 6 भागांे में विभाजित कर प्रत्येक भाग में अलग से होम आइसोलेशन, फॉलो अप के लिए अलग अलग मेडिकल टीम गठित की गई.

बैठक में होम आइसोलेशन प्रक्रिया के दौरान संबंधित मेडिकल टीम द्वारा मरीज को कॉउंसिल करने, केयर गिवर एवं मरीज द्वारा शपथ पत्र एवं बंध पत्र भरवाने, चिकित्सक द्वारा होम आइसोलेशन के लिए प्रमाण पत्र जारी करने,मरीज के घर होम आइसोलेशन का पत्र चस्पा करवाने, कुछ आवश्यक दवाइयां जरूरत पड़ने पर विटामिन सी, जिंक इत्यादि देने, बायो वेस्ट के लिए पीला बेग उपलब्ध कराने, मरीज द्वारा प्लस ऑक्सिमीटर, थर्मामीटर खरीदकर स्वयं का रोज तापमान एवं ऑक्सीजन लेवल देखकर मेडिकल टीम को अपडेट करने एवं इंटर्न चिकित्सकांे द्वारा उन्हें नियमित फॉलोअप करने के निर्देश दिए गए.

इसी प्रकार होम आइसोलेशन के दौरान सिम्प्टोमैटिक होने पर रेपिड रेस्पॉन्स टीम द्वारा ईएसआई हॉस्पिटल के लिए तुरंत रेफर करने इत्यादि कार्य को सुचारू रूप से करने के लिए होम आइसोलेशन, फॉलो अप मेडिकल टीम एवं रेपिड रेस्पॉन्स टीम को निर्देशित किया गया. बैठक में शहर कोविड प्रभारी डॉ शंकर बामनिया, डब्ल्यूएचओ के सर्विलांस मेडिकल ऑफिसर डॉ व्यास, आर आर टी इंचार्ज कपिल लाड़ोती,नोडल अधिकारी डॉ अंशुल मठ्ठा, कांटेक्ट ट्रेसिंग अधिकारी डॉ मनु मोदी, आइसोलेशन इंचार्ज  डॉ विकास मीणा,सैंपलिंग प्रभारी डॉ विकास कुलहरि, शहर के सभी सेक्टर के चिकित्सा अधिकारी प्रभारी, आर आर टी चिकित्सक एव सदस्यगण,फॉलो अप टीम इंटर्न चिकित्सकगण एव अन्य स्टाफ उपस्थित थे.