Monday , 19 April 2021

बेघरों के लिए दिल्ली के हर जिले में खुला आइसोलेशन सेंटर

नई दिल्ली (New Delhi) . आम जनता के स्वास्थ्य का ध्यान रखने के साथ-साथ दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार बेघरों के स्वास्थ्य का भी पूरा ध्यान रख रही है. कोरोना के संक्रमण को देखते हुए प्रत्येक जिले में एक आइसोलेशन सेंटर बनाया गया है. यहां पर बीमार बेघरों को प्राथमिक उपचार के बाद अस्पतालों में भर्ती कराया जा रहा है. अभी तक 2808 बेघरों को सड़क से उठाकर रैन बसेरा में पहुंचाया गया, इसमें कई बीमार भी मिले हैं, जिन्हें इन आइसोलेशन सेंटरों में रखा जा रहा है. राजधानी दिल्ली में सड़क पर लेटने वाले बेघर लोगों को रैनबसेरा तक पहुंचाने के लिए 16 टीमें बनाई गई हैं. यह टीमें 20 नवंबर से काम कर रही हैं. इस समय 276 रैन बसेरों में 6625 लोग रह रहे हैं. 38 बेसहारा लोगों को अब तक आम जनता की सूचना पर रैनबसेरा में पहुंचाया गया है. हालांकि, 10 बेघर दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड (डूसिब) की टीम पहुंचने से पहले ही वहां से भाग गए. 43 बेघरों ने रैन बसेरों में जाने से इन्कार कर दिया. स्वास्थ्य विभाग की टीमें सप्ताह में दो बार रैन बसेरों का दौरा कर रही हैं.

कोरोना को देखते हुए रैन बसेरों में थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है. बचाव दलों को भी थर्मल मशीनें दी गई हैं, ताकि वह उन्हें वाहन में बैठाने से पहले जांच कर लें. डूसिब बेघरों के लिए रैन बसेरा चलाता है. दिल्ली में 193 रैन बसेरे स्थायी रूप से बने हैं. इन रैन बसेरों के अलावा पिछले साल के 70 अस्थायी टेंटों में चलने वाले रैन बसेरों के स्थान पर इस बार 250 टेंट लगाए जाएंगे. इसमें 83 स्थानों पर 150 वाटर प्रूफ टेंट लगाए जा चुके हैं. डूसिब इस प्रयास में है कि इस बार सभी बेघरों को चारपाई उपलब्ध कराई जाएं. इसके लिए एक खास केमिकल के लेप वाली 4 हजार चारपाई खरीदी गई हैं. इससे यह चारपाई आग नहीं पकड़ेंगी. इसके अलावा कई जगह बेघरों को रात्रि विश्राम के लिए इस बार बंकर बेड उपलब्ध कराए गए हैं. शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर बेघरों के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं. इमारतों में जो रैन बसेरे बनाए गए हैं. उनमें बेघरों को नहाने के लिए गर्म पानी दिया जा रहा है. ऐसे 79 रैन बसेरे शामिल हैं. इसके अलावा बेघरों को लंच व डिनर दिया जा रहा है. बेघरों की सूचना देने के लिए एप व कंट्रोल रूम बनाया गया है. सूचना पर तत्काल डूसिब की टीम बेघर लोगों को रैन बसेरा तक पहुंचा रही है.

Please share this news