Saturday , 26 September 2020

भारतीय मीडिया को भी ‘ग्लोबल’ होने की जरूरत: मोदी


नई दिल्ली (New Delhi) . प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (Tuesday) को कहा कि हर अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की उपस्थिति मजबूत हुई है, ऐसे में भारतीय मीडिया (Media) को भी ‘ग्लोबल’ होने की जरूरत है. जयपुर (jaipur) में जवाहरलाल नेहरू मार्ग पर समाचारपत्र समूह ‘पत्रिका’ की ओर से निर्मित ‘पत्रिका गेट’ का वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उद्घाटन करने के बाद अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि मीडिया (Media) द्वारा सरकार (Government) की आलोचना स्वाभाविक है और इससे लोकतंत्र मजबूत हुआ है.

मोदी ने कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए मीडिया (Media) की सराहना करते हुए इसे लोगों की ‘अभूतपूर्व ’ सेवा बताया. प्रधानमंत्री ने कहा भारत के स्थानीय उत्पाद आज ग्लोबल हो रहे हैं. भारत की आवाज भी और ज्यादा ग्लोबल हो रही है. दुनिया भारत को और ज्यादा गौर से सुनती है. हर अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की मजबूत उपस्थिति है. ऐसे में भारत के मीडिया (Media) को भी ग्लोबल होने की जरूरत है.

स्वच्छ भारत, उज्जवला गैस योजना और जल जीवन मिशन जैसी सरकारी योजनाओं के बारे में जागरूकता फैलाने और कोरोना के खिलाफ जंग में मीडिया (Media) की भूमिका की सराहना करते हुए मोदी ने सरकार (Government) के कार्यों की विवेचना और आलोचना को स्वाभाविक बताया. उन्होंने कहा सरकार (Government) की योजनाओं में जमीनी स्तर पर जो कमियां है, उसको बताना और उसकी आलोचना स्वाभाविक है.

सोशल मीडिया (Media) के दौर में यह और भी ज्यादा स्वभाविक हो गया है. लेकिन आलोचना से सीखना भी हम सबके लिए उतना ही स्वाभाविक और आवश्यक है. इसलिए आज हमारा लोकतंत्र मजबूत हुआ है. प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत और ‘लोकल के लिए वोकल’ संकल्प को एक बड़े अभियान की शक्ल देने और उसे व्यापक करने की जरूरत पर बल दिया.