Tuesday , 15 June 2021

कोरोनाकाल में बढा डिजिटल लेन-देन, बैंकों में भीड हुई कम

भोपाल (Bhopal) . कोरोनाकाल में बैंकों में लगने वाली भीड कम हुई और बढा डिजिटल लेन-देन को बढावा ‎मिला है. जमा एवं निकासी अब डिजिटल प्लेटफार्म के जरिए ऑनलाइन हो रहे हैं. चाहे कोरोना का डर ही क्यों न हो, लोगों ने लेन-देन का तरीका ही बदल लिया है. 65 फीसद से अधिक लोग भुगतान गूगल पे, पेटीएम, फोन-पे एवं अमेजन जैसे एप्स पर कर रहे हैं. चाहे 10 रुपये का ही भुगतान क्यों न हो.

लिहाजा, बैंकों में लगने वाली कतारें अब देखने को नहीं मिलती. कोरोना ने एक साल के भीतर हमसे काफी कुछ छिना है. हजारों लोगों को कोरोना ने जकड़ा तो कइयों की मौत भी हुई. लॉकडाउन (Lockdown) के करीब 68 दिनों में उद्योग-धंधे सब ठप हो गए थे. जब बाजार खुले तो कई दुश्वारियां आईं, पर कोरोना को मात देते हुए जिंदगी पटरी पर लौटने लगी. व्यापारी, महिलाओं से लेकर कई क्षेत्र में कई नवाचार हुए. लोगों ने अपनी आदतों में भी बदलाव किया. खासकर लेन-देन के तरीकों को बदला. अब वे नगद लेन-देन को छोड़ ऑनलाइन ही भुगतान करने लगे हैं. राजधानी के सराफा से लेकर किराना बाजार तक लेन-देन का तरीका डिजिटल हो गया है. व्यापारी भी एक-दूसरे को इसी प्रक्रिया के जरिए भुगतान करते हैं.

थोक किराना व्यापारी अनुपम अग्रवाल बताते हैं कि कोरोना के चलते नगद पेमेंट लेन से परहेज करते हैं. ऑनलाइन तरीकों के साथ आरटीजीएस से भुगतान प्राप्त कर रहे हैं. सराफा कारोबारी नवनीत अग्रवाल ने बताया कि जानकारी के आभाव में ग्रामीण ग्राहक डिजिटल भुगतान नहीं करते. शहरी ग्राहकों में 50 फीसद तक डिजिटल प्लेटफार्म का उपयोग करते हैं.अग्रणी बैंक (Bank) के प्रबंधक शैलेंद्र श्रीवास्तव बताते हैं कि डिजिटल प्लेटफार्म कोरोना से बचाव के लिए कारगार साबित हो रहा है. इससे बैंकों में भी भीड़ कम हुई है. इससे न सिर्फ ग्राहक बल्कि बैंककर्मी भी सुरक्षित रहते हैं.

Please share this news