Saturday , 15 May 2021

अर्नब गोस्‍वामी के चैट लीक मामले में कूदे इमरान खान, मोदी सरकार पर लगाए आरोप

इस्लामाबाद . पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक भारतीय टीवी पत्रकार और मीडिया (Media) उद्योग के एक पूर्व कार्यकारी के बीच कथित व्हाट्सएप मैसेजिंग को लेकर मीडिया (Media) में आई खबरों पर आक्रोश जताया है. इन खबरों के अनुसार बातचीत में यह कहा गया है कि 2019 में पाकिस्तान में भारत का एयरस्ट्राइक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की चुनाव में जीत की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए की गई थी.
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारतीय टीवी पत्रकार अर्णब गोस्वामी और टीवी रेटिंग कंपनी के पूर्व प्रमुख पार्थो दासगुप्ता के बीच व्हाट्सएप पर कथित बातचीत के बारे में भारतीय मीडिया (Media) में आई खबरों को लेकर ट्विटर पर प्रतिक्रिया की है. खबरों के अनुसार इन कथित मैसेजों का आदान-प्रदान एयरस्ट्राइक के तीन दिन पहले हुआ था.

इस बातचीत से यह संकेत मिलता है कि गोस्वामी को एयरस्ट्राइक के बारे में पहले से जानकारी थी और इसे लोकसभा (Lok Sabha) चुनाव में मोदी की फिर से जीत की संभावना बढ़ाने के इरादे से किया गया था. गोस्वामी रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक हैं और वह मोदी एवं उनकी राष्ट्रवादी नीतियों का समर्थन करने के लिए जाने जाते हैं. कथित व्हाट्सएप ‘चैट’ के अनुसार 26 फरवरी 2019 के एयरस्ट्राइक से तीन दिन पहले गोस्वामी ने दासगुप्ता से कहा कि कुछ बड़ा होगा और सरकार पाकिस्तान पर कुछ इस तरह से हमला करने को लेकर आश्वस्त है, जो लोगों को गौरवान्वित करेगा.

इस पर दासगुप्ता, गोस्वामी से कहते हैं कि पाकिस्तान पर हमला मोदी को आगामी चुनाव में बहुमत दिलाएगा. इसके कुछ महीने बाद मई 2019 के चुनाव में मोदी को प्रचंड जीत मिली और उनकी पार्टी बहुमत के साथ संसद पहुंची. यह बातचीत मुंबई (Mumbai) पुलिस (Police) के उस पूरक आरोपपत्र का हिस्सा है, जिसे टीवी रेटिंग में कथित हेरफेर के एक अलग मामले में दायर किया गया है. इस बारे में सोमवार (Monday) को न तो दासगुप्ता और न ही गोस्वामी ने कोई टिप्पणी की. हालांकि गोस्वामी के रिपब्लिक टीवी ने एक बयान जारी कर आरोप लगाया कि पाकिस्तान सरकार उनके खिलाफ साजिश रच रही है.

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान पर फरवरी 2019 की यह एयरस्ट्राइक जम्मू (Jammu) कश्मीर में उसी महीने आतंकवादियों द्वारा किए गए आत्मघाती बम हमले के जवाब में की गई थी. इस हमले में 40 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे. भारत ने इन हमलों के लिए पाकिस्तान के आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद पर आरोप लगाया था और उसने हमले की जिम्मेदारी भी ली थी. पाकिस्तान ने जैश-ए-मोहम्मद के नेताओं को गिरफ्तार भी किया लेकिन मोदी नीत सरकार ने पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी ठिकाने को निशाना बनाने की बात कहते हुए वहां रात में एयरस्ट्राइक की. खान ने 2019 में संयुक्त राष्ट्र में अपने भाषण में आरोप लगाया था कि मोदी ने चुनाव में फायदे के लिए एयरस्ट्राइक का इस्तेमाल किया. पाक प्रधानमंत्री ने कहा कि हाल ही में भारतीय पत्रकार की बातचीत को लेकर खुलासों ने मोदी के नेतृत्व वाली सरकार और भारतीय मीडिया (Media) के बीच नापाक गठजोड़ को उजागर कर दिया है, जिसका इस्तेमाल चुनावी फायदे और पूरे क्षेत्र को अस्थिर करने के इरादे से किया गया.

Please share this news