Monday , 28 September 2020

पायलट ने कहा सभी का ध्यान इस बात पर केन्द्रित हो कि पार्टी कैसे मजबूत हो

जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan) के पूर्व उपमुख्यमंत्री (Chief Minister) और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट ने शुक्रवार (Friday) को कहा कि इस समय पार्टी नेताओं और सभी कार्यकर्ताओं का ध्यान पार्टी को मजबूत करने पर होना चाहिए. दरअसल पार्टी प्रभारी अजय माकन के संवाद कार्यक्रम के दौरान पार्टी के ही विभिन्न गुटों में नारेबाजी की कथित घटनाएं सामने आई हैं. इस बारे में पायलट ने कहा कि इन बातों को नकारात्मकता से नहीं लेना चाहिए. पायलट ने कहा,कार्यकर्ताओं में जोश हैं, सब मिलकर काम करना चाहते हैं इसलिए मुझे लगता है कि कुछ लोगों ने अति उत्साह में अपनी बात रखी होगी. सीमित कार्यक्रम हो और ज्यादा लोग आ जाते हैं तो थोड़ा बहुत ऊपर नीचे हो जाता है.

उन्होंने,मुझे लगता है कि हम सबका ध्यान इस बात पर केन्द्रित हो कि पार्टी कैसे मजबूत हो. आगे पंचायती चुनाव, नगरपालिका चुनाव होने इसके लिए पार्टी को मजबूत करना हैं. मैंने कहा है कि 36 महीने बाद विधानसभा चुनाव हैं इसलिए हमें उस पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.’’ इसके साथ ही पायलट ने पार्टी प्रभारी माकन द्वारा संभागवार पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से संवाद के कार्यक्रम को सकारात्मक कदम बताया.

पायलट ने कहा कि इस बारे में पार्टी नेता राहुल गांधी की बातें बहुत जायज हैं क्योंकि देश आर्थिक मोर्चे पर भयंकर संकट में है. जीडीपी में भारी गिरावट हुई जो उद्योग बंद हो रहे हैं. केंद्र सरकार (Government) ने दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया, जबकि हालिया रिपोर्ट के अनुसार 2 करोड़ 10 लाख नौकरियां खत्म हो चुकी, वेतन में कटौती हो रही हैं, अर्थव्यवस्था पटरी से उतर चुकी है.’’

पायलट ने कहा कि इनदिनों मीडिया (Media) में आ रहा है कि चीन हमारी सीमा में घुस रहा हैं, आक्रमण कर रहा है, लेकिन केन्द्र की मोदी सरकार (Government) का इस बारे में न तो कोई स्पष्ट रुख है न ही जवाब देने की मंशा है.उल्टा ध्यान हटाने के लिए दूसरे मुद्दे मीडिया (Media) में चल रहे हैं, लेकिन असली मुद्दा अर्थव्यवस्था का आंतरिक सुरक्षा का है, सीमाओं पर लगातार अतिक्रमण हुआ है उसका है. पायलट ने कहा कि केंद्र सरकार (Government) के पास पूर्ण बहुमत है और देश अपनी सेनाओं के साथ खड़ा हुआ है, जो भी जवाबी कार्रवाई करनी है अगर केंद्र सरकार (Government) करती है तो पूरा देश एकजुटता से उसका समर्थन करेगा.